'रक्तधार' से सदाशिव अमरापुरकर के 'महारानी' किरदार से बनी नकारात्मक सोच में आएगा बदलाव

एजेंसी
हाइलाइट्स

मुंबई (न्यूज़ हेल्पाइन) निर्देशक अजीत वर्मा, अपनी आने वाली फिल्म 'रक्तधार' के प्रचार में व्यस्त हैं। प्रचार के दौरन मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा, “'रक्तधार' से सदाशिव अमरापुरकर के 'महारानी' किरदार से बनी नकारात्मक सोच में बदलाव आएगा।”

श्री वर्मा ने कहा.

"सदाशिव अमरापुरकर ने फिल्म 'सड़क' में महारानी का किरदार निभाया था, इस तरह की फिल्म कभी नहीं देखि गई। सड़क फिल्म से किन्नरों के प्रति लोगो  के मन में कई गलत विचार आ गए थे। उस फिल्म के बाद से ही किसी ने किन्नरों को सकारात्मक सोच से नहीं देखा। वो किरदार बहुत ही अच्छा निभाया गया था पर किन्नरों के साथ न्याय नहीं था। मुझे पूरा विश्वास है की फिल्म रक्तधार से लोगो के मन में सकारात्मक सोच आएगी। 

दोनों किरदारों का अभिनय बिलकुल अलग है, रक्तधार में शक्ति कपूर सकारात्मक करदार निभा रहे हैं वही सदाशिव अमरापुरकर नकारात्मक किरदार निभाए थे।“ 

उन्होंने जनता से आग्रह किया कि फिल्म के चरित्र को  एक भावनात्मक यात्रा के रूप में देखें और उस संदेश को दिमाग में प्रतिबिंबित करने के लिए  और वास्तविक जीवन में दूसरे को सीख दे सके । 

'रक्तधार' के निर्देशक ने कहा,

"जब आप फिल्म देखते हैं, तो ध्यान रखें कि यह मेरी जिंदगी का सबसे बेहतरीन काम है मैंने फिल्म में 22 साल का जीवन दिया है। मैंने उनके जीवन के हर पहलू को ध्यान में रखते हुए फिल्म को बनाया है। लोगो से अनुरोध है की  फिल्म को देखने के बाद किन्नरों के प्रति अपनी सोच बदले। 

फिल्म का ट्रेलर -प्रेम, राजनीतिक बदला और समाज से संघर्ष की कहानी के बारे में एक झलक देता है,  फिल्म में मुकेश ऋषि, शाहबाज खान, एहसान खान, दीपशिखा नागपाल, मनीष खन्ना और संचिता बॅनर्जी ने अभिनय किया है। 

अजीत वर्मा द्वारा निर्देशित फिल्म, धनंजय ढवाण पाटिल और राजन गुप्ता द्वारा संयुक्त रूप से बनाई गई है और 6 अक्टूबर, 2017 को रिलीज़ होगी। 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।