सुशासन : नीतीश को करना था उद्घाटन, 15 घंटे पहले ही टूट गया बांध

सुशासन बाबू जब से महागठबंधन तोड़कर भाजपाकेसाथगए हैं, मुसीबतें उनका पीछा नहीं छोड़ रही हैं। एक नया बांध उद्घाटन से पहले ही टूट गया, जिसका एक दिन बाद नीतीश उद्गाटन करने वाले थे...

हाइलाइट्स

सुशासन बाबू कहे जाने वाले बिहार के मुख्यमंत्री जब से महागठबंधन तोड़कर भाजपाकेसाथगए हैं, मुसीबतें उनका पीछा नहीं छोड़ रही हैं। अब एक नए घटनाक्रम में एक नया बांध उद्घाटन से पहले ही टूट गया, जिसका एक दिन बाद नीतीश उद्गाटन करने वाले थे।

http://ispeak.mybhagalpur.com  की एक ख़बर के मुताबिक बिहार के भागलपुर स्थित कहलगांव बटेश्‍वर गंगा पंप नहर का बांध मंगलवार को उद्घाटन से पहले ही टूट गया। इससे अफरा-तफरी मच गई। नहर का पानी कहलगांव एनटीपीसी के आवासीय परिसर में प्रवेश कर गया है। बताया जारहा है कि गनीमत रही बांध का पानी ग़ांव की तरफ नहीं आया। ये बांध कहलगाँव एनटीपीसी आवासीय एरिया सीआईएसएफ क्वाटर के नजदीक में करीब छह फीट टूटा है। एक बार जब नहर का पानी जवानों के क्वार्टर में घुसने लगा तो वहां अफरातफरी मच गई।

ख़बर के अनुसार पानी के तेज बहाव के कारण एनटीपीसी कॉलोनी में अफरातफरी मच गई तथा लोग दहशतजदा हो गये। पिछले चार दशकों से हरित क्रांति का सपना संजोये क्षेत्र के किसानों की आशा पर भी पानी फिर गया। उद्घाटन को लेकर सोमवार से सिंचाई परियोजना के मोटर पंपों का ट्रायल किया जा रहा था। बारी-बारी से मोटर पंप चलाये जा रहे थे। सोमवार को महज दो मोटर पंपों को कुछ घंटों तक चलाया गया लेकिन मंगलवार को ट्रायल रन के क्रम में मोटर पंपों की संख्या बढ़ा दी गई तथा चार मोटर पंपो से नहर में पानी गिराया जाने लगा। इससे नहर पानी से लबालब भर गया।

एनटीपीसी के अस्थाई आवासीय परिसर स्थित सीआईएसएफ कॉलोनी के पास अंडर रोड ब्रिज यानि टनल रोड के ऊपर से गुजरे कैनाल के उत्तरी छोर की दीवार ढह गयी और पानी का तेज बहाव होने लगा। टनल रोड में करीब सात से आठ फीट पानी जमा होने के बाद पास के सीआईएसएफ कॉलोनी और ठेकेदार कॉलोनी पूरी तरह जलमग्न हो गया। दोनों कॉलोनियों के अधिकांश घरों में पानी घुस गया।

सब जज और सिविल जज के आवासों में भी पानी घुस गया। सत्कार चौक से मुरकटिया चौक की ओर जानेवाले मार्ग पूरी तरह जलमग्न होने के बाद आवागमन ठप हो गया। वहीं कहलगांव से सत्कार चौक और शहर से मुरकटिया चौक की ओर जानेवाला मार्ग भी जलमग्न हो गया जिससे आवाजही बुरी तरह प्रभावित हो गई। पानी के तेज बहाव के कारण सीआईएसएफ कॉलोनी का करीब 150 मीटर लंबी दीवार भी ढह गयी। अंडर रोडब्रिज के निकट की दीवार को जेसीबी मशीन से तोड़कर पानी को सीआईएसएफ कॉलोनी मे घुसने से रोकने का असफल प्रयास भी किया गया। वहीं अनेक जगहों पर नहर की दीवार से हो रहे रिसाव के कारण सड़कों पर पानी बहने लगा। अकबरपुर और रानीपुर लघरिया गांवों में भी पानी का प्रवेश हो गया तथा कुछ घर क्षतिग्रस्त भी हो गये।

जल संसाधन विभाग के प्रधान सचिव अरूण कुमार सिंह, जिलाधिकारी आदेश तितरमारे, एसएसपी मनोज कुमार तथा अन्य वरीय अधिकारियों ने स्थिति का जायजा लिया। देर रात उक्त स्थल के पास बालू भरे जियो बैग डालकर पानी के बहाव रोकने का प्रयास किया जा रहा था।

बता दें कि चालीस साल पहले शुरू हुई सिंचाई योजना बटेश्वरस्थान गंगा पंप कनाल का काम आखिरकार पूरा हो गया है। बुधवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इसका उद्घाटन करने वाले थे। हाल के दिनों में यह पहला मौका है जब किसी इतनी पुरानी सिंचाई योजना का उद्घाटन होने वाला था। इस योजना पर 389.31 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं। जल संसाधन मंत्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह भी उद्घाटन के मौके पर मौजूद रहने वाले थे।

यह योजना लिफ्ट इरिगेशन श्रेणी की योजना है। इसके तहत भागलपुर के कहलगांव प्रखंड में शेखपुरा गांव के निकट गंगा नदी के दायें तट पर स्थित कोआ व गंगा नदी के संगम के निकट पंप हाउस नंबर एक बनाया गया है। इससे लगभग डेढ़ किमी दूरी पर स्थित शिवकुमारी पहाड़ी के निकट पंप हाउस नंबर दो बनाया गया है। इन दोनों पंप हाउस से गंगा नदी के पानी को दो स्टेज पर 17 और 27 मीटर लिफ्ट कर मुख्य नहर व इससे निकली वितरण प्रणाली को सिंचाई के लिए उपलब्ध कराया जाएगा।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।