संसद मार्ग पर हजारों युवाओं ने प्रदर्शन कर मोदी सरकार से पूछा कहां है मेरा रोज़गार ?

सीताराम येचुरी ने कहा है कि यदि जो बारह लाख करोड़ रुपया बड़े-बड़े पूंजीपतियों ने लूटा हुआ है, यदि उसमें से आधा पैसा भी वापिस आ जाए तो देश के सारे युवाओं को रोज़गार दिया जा सकता है।...

संसद मार्ग पर हजारों युवाओं ने प्रदर्शन कर मोदी सरकार से पूछा कहां है मेरा रोज़गार ?

नई दिल्ली, 03 नवंबर। माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा है कि यदि जो बारह लाख करोड़ रुपया बड़े-बड़े पूंजीपतियों ने लूटा हुआ है और मोदी सरकार ने उन्हें देश से भाग जाने की इजाजत दी, यदि उसमें से आधा पैसा भी वापिस आ जाए तो देश के सारे युवाओं को रोज़गार दिया जा सकता है।

कामरेड येचुरी संसद् मार्ग पर आयोजित एक युवाओं की एक रैली को संबोधित कर रहे थे।

भारत की जनवादी नौजवान सभा डीवाईएफआई की अगुवाई में हजारों युवाओं ने आज संसद मार्च किया। ये युवा नरेंद्र मोदी सरकार से पूछ रहे थे कि उनके द्वारा वादा की गई नौकरियां कहां हैं।

डीवाईएफआई ने मोदी सरकार से रोजगार पर सवाल पूछने के लिए दिल्ली चलो का नारा दिया था।

येचुरी ने शहीदे आजम भगत सिंह का ज़िक्र करते हुए इंकलाब जिन्दाबाद Long live revolution का अर्थ समझाया।

अखिल भारतीय किसान सभा के महासचिव कामरेड हन्नान मोल्लाह ने नौजवान सभा के दिल्ली चलो नारे के साथ एकजुटता दिखाते हुए नौजवानों से मोदी सरकार को खारिज करने की अपील करते हुए आंदोलन का आव्हान किया।

माकपा पॉलिट ब्यूरो सदस्य मो. सलीम ने भी दिल्ली चलो रैली को संबोधित किया। संसद् मार्ग पर आयोजित इस रैली में देश भर से लगभग दस हजार युवाओं ने हिस्सा लिया और वादे के मुताबिक रोजगार न देने ने के लिए मोदीसरकार के खिलाफ नारेबाजी की।

Democratic Youth Federation of India-DYFI भारत में एक लोकतांत्रिक युवा संगठन है। इसकी स्थापना 1-3 नवंबर 1980 को पंजाब के लुधियाना के शहीद करतर सिंह सराबा गांव में उद्घाटन सम्मेलन में हुई थी। 2012 तक, डीवाईएफआई की सदस्यता 2.2 मिलियन थी जो 2011 में 1.4 मिलियन से बढ़ी थी। जाहिर तौर पर डीवाईएफआई मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी का युवा संगठन है।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।