अच्छे दिनों के तीन साल का तोहफा – 20 प्रतिशत भारतीय इंजीनियर्स गंवा देंगे अपनी नौकरी

आईटी सेक्टर में नौकरी करने वाले इंजिनियर्स को तगड़ा झटका लग सकता है..आने वाले समय में इंजिनियर्स के सामने नौकरी को लेकर संकट के बादल गहरा सकते है.....

पांच साल बाद इंजीनियर्स की नौकरी खतरे में

engineers Jobs will reduced by 2020

आईटी सेक्टर में नौकरी करने वाले इंजिनियर्स को तगड़ा झटका लग सकता है..आने वाले समय में इंजिनियर्स के सामने नौकरी को लेकर संकट के बादल गहरा सकते है...ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि अमेरिका के H1-B वीजा पर प्रतिबंध लगाने के साथ ही लोगों के सामने नौकरी को लेकर मुश्किलें खड़ी हो गई हैं...जिस तरह से मौके कम हो रहे हैं और मार्केट बदल रहा है, उसे देखते हुए 2020 तक भारत के 40 लाख सॉफ्टवेयर इंजिनियर्स में से 20 प्रतिशत अपनी नौकरी गंवा देंगे।

यह भी पढ़ें - Hindu Rashtra: Is it good for Hindus? Average Hindus are a big victim of this agenda.चौंकाने वाली बात यह है कि मार्केट की हालत ऐसी होगी कि निकाले गए इंजिनियर्स के लिए दूसरी नौकरी मिलना काफी मुश्किल होगा। आईटी सेक्टर में काम करने वाले या काम करने की चाह रखने वाले मुश्किल में हैं लेकिन ऐसा नहीं है कि नौकरियां के इस सूखे ने केवल इसी सेक्टर को प्रभावित किया है।

भारत के 48 करोड़ वर्किंग क्लास में और भी कई सेक्टर के लोगों के ऊपर अनिश्चितता के बादल छाए हुए हैं।

यह भी पढ़ें - यह विचारधारा है रंगभेद की, जो पूरे सत्ता वर्ग शोषक तबके की विचारधारा है

टेलिकॉम इंडस्ट्री की अगर बात करें तो यह सेक्टर भी मुश्किल में है। वोडाफोन और आइडिया जैसी बड़ी कंपनियां एक होने जा रही हैं। यह सेक्टर 30 से 40 प्रतिशत एंप्लॉयी बेस को निकट भविष्य में हटा देगा।

सबसे अधिक लोगों को 'ऑफिस जॉब' देने वाले बैंकिंग सेक्टर की बात करें तो वह भी अपने स्ट्रेस्ड असेट्स के कारण जूझ रहा है।

यह भी पढ़ें - भाजपा को 30,000 करोड़ रु. कहां से मिले, जो उसने 2014 के लोकसभा चुनावों में खर्च किए

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
क्या मौजूदा किसान आंदोलन राजनीति से प्रेरित है ?