मोदी जी जयपुर का आपकी पार्टी का मेयर पकौड़े बेचने वालों को हटा रहा है

प्रधानमंत्री को खुला खत...

प्रधानमंत्री को खुला खत

मेहनतकश पंचायत

कैम्प कार्यालय:1913 खेजड़ो का रास्ता,चांदपोल      

बाजार जयपुर 302001.

क्रमांक                                       दिनाँक

Pm/1                                                  11 फ़रवरी 18

 

माननीय प्रधानमंत्री जी,

   सादर नमस्कार। पत्र के माध्यम से आपके पकौड़े बेचने वाले रोजगार के बयान और आप द्वारा जो चाय बेचने का व्यवसाय किया गया उसका तहेदिल से सम्मान करते हुए, तमाम देशवासियों को भी आपके उपरोक्त बयान व कार्य का सम्मान करना भी चाहिए ”आख़िर सच्चाई व अच्छाई के साथ किये गये कार्य मे कोई बुराई नही है” आपका ध्यान में उपरोक्त दोनो व्यवसायों करने वाले मेहनतकश समुदाय की और दिलाना चाहता हूँ।

माननीय

          इस बात में कोई शक नही है कि देश की आबादी का एक बड़ा तबका सड़को व फुटपाथ पर पकौड़े व चाय बेचने जैसे सैकड़ो तरह के कार्य करता है।

उपरोक्त व्यवसाय में परोक्ष व अपरोक्ष रूप से आबादी का एक बहुत बड़ा हिस्सा लगा हुआ है “ जिनकी ज़िन्दगी का अहम हिस्सा सुबह 3 बजे जागने से शुरू होकर रात को 10-11 बजे सोने में खत्म होता है।“

 

लेकिन अफ़सोस की बात यह है कि बिना किसी सरकारी मदद व सरंक्षण के तमाम प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद यह लोग अपना व्यवसाय पूरी जीवटता से करते हुए कम से औसत रूप से कम से कम 2 लोगो को रोजगार उपलब्ध कराने का कार्य करते है, इन तमाम बातों क बावजूद यह अलग बात है कि इन्हें अपना व्यवसाय सुचारू रूप से करने के लिये स्थानीय निकाय, स्थानीय पुलिसकर्मियों व स्थानीय गुंडो को बंधी के रूप में एक निश्चित रकम देनी पड़ती है।

कितनी अफसोस कि बात है ऐसे ज़मीर व जीवट वाले मेहनतकश समुदाय को सरकार व प्रशासन द्वारा उन्हें सहयोग व सरंक्षण देना तो दूर की बात है उन्हें आये दिन परेशान किया जाता है। किसी भी शहर व कस्बे में जब कभी अतिक्रमण हटाने की या सौंदर्यीकरण की बात आती है तो सरकार की नीतियों व प्रशासन की कार्यवाही का सबसे आसान व पहला निशाना सड़क और फुटफाथ पर व्यवसाय करने वाले यह व्यवसायी ही बनते है।

माननीय, कोई भी शहर या कस्बा सुंदर बने इसमें किसे ऐतराज हो सकता है ? हम तो चाहते है कि पूरा मुल्क व दुनिया सुंदर बने लेकिन उस शहर व कस्बे की आबादी के बड़े हिस्से की ज़िंदगी को बदसूरत बना कर कोई भी शहर खूबसूरत नही बन सकता क्यूँ कि रोजगार के अभाव में आबादी का बड़ा हिस्सा अपराध की और ही बढ़ेगा।

अभी हाल इन दिनों राजस्थान की राजधानी जयपुर में स्वच्छता सर्वेक्षण अभियान चल रहा है जिसके कारण जयपुर के हजारों फुटफाथ व्यवसायियों को जो कि पकौड़े व चाय बेचने जैसे तरह-तरह के कार्य करते हैं, उनको नगर निगम जयपुर द्वारा हटाया जा रहा है,जिसके कारण उनके सामने खुद अपना व अपने परिवार का जीवनयापन करने का संकट पैदा हो गया है।

अतः हमारी आप से मात्र इतनी गुजारिश है कि सड़क व फुटफाथ पर अपने पूरे आत्मसम्मान व स्वाभिमान के साथ व्यवसाय करने का कार्य करके अपना खुद व अपने परिवार का जीवनयापन कर रहे है,वह सुचारू रूप से अपना व्यवसाय कर सके इसके लिये आपकी पार्टी की सरकार को आपकी पार्टी के बहुमत वाले नगर निगम जयपुर के साथ ही आपकी ही पार्टी के महापौर श्री अशोक लाहौटी को निर्देश दे कि आपके प्रिय रोजगार पकौड़े व चाय बेचने जैसे व्यवसाय करने वाले मेहनतकश समुदाय को परेशान करना बंद करके उन्हें सुचारू रूप से व्यवसाय करने की व्यवस्था कायम करे।

पूरे आदर और सम्मान सहित………..

                              भवदीय

                           बसंत हरियाणा

                              अध्यक्ष

प्रतिष्ठा में…

माननीय प्रधानमंत्री,

 भारत सरकार

  नई दिल्ली

           

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।