एक घंटा इंतजार करके भी भारतीय चाय पीने के शौकीन हैं चीनी

हाइलाइट्स

एक घंटा इंतजार करके भी भारतीय चाय पीने के शौकीन हैं चीनी

नई दिल्ली। भारत-चीन के बीच होने वाले व्यापार पर डोकलाम विवाद का कोर्इ प्रभाव नहीं पड़ा। व्यापार निर्बाध गति से चलता रहा। एक ओर जहां भारत का बाजार चीन के उत्पादों से पटा पड़ा है तो चीन में भी भारत के कृषि उत्पादों की माँग है। आलम यह है कि भारत की चाय पीने के लिए चीनी लोग लालायित रहते हैं।

चाइना रेडियो इंटरनेशनल के मुताबिक #gotoChina ल्हासा की पुरानी सड़क पर टी हाउस पर चायप्रेमियों का ताँता लगा रहता है।

ल्हासा के केंद्र में स्थित बार्कोर सड़क पर एक क्यीरीचोकांग नामक दो मंजिली इमारत है। अब इस इमारत के ग्राउंड फ्लॉर पर एक टी हाउस है। सुबह से ही बहुत से स्थानीय लोग और पर्यटक यहां मीठी चाय पीना पसंद करते हैं।

टी हाउस के मालिक ने लोसांगचाशी बताया कि चाय बनाने के मुख्य पदार्थ भारत से निर्यातित ब्रैक टी और दूध पाउडर है। अच्छी चाय बनाने के लिए एक घंटा लगता है।

(सभी चित्र फेसबुक से साभार)

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।