जीएसटी से बड़े उद्योगों को कोई फर्क नहीं पड़ेगा

रैड चीफ रीटेल रेफलर कांटेस्ट के पहले भाग्यशाली विजेता बने तरनजीत सिंह...

रैड चीफ रीटेल रेफलर कांटेस्ट के पहले भाग्यशाली विजेता बने तरनजीत सिंह

                रोहतक, 28 जून। जीएसटी से बड़े उद्योगों को कोई फर्क नहीं पड़ेगा बल्कि इससे व्यापार में पारदर्शिता आयेगी।

यह बात आज रैड चीफ के ब्रांड मार्केटिंग एवं डिजाइन टीम के डीजीएम बरूण प्रभाकर ने स्थानीय सुखपुरा चौंक पर आयोजित रैड चीफ द्वारा आयोजित रैड चीफ रीटेल रेफलर कांटेस्ट के पहले पुरस्कार वितरण समारोह में पत्रकारों से वार्ता के दौरान कही।

उन्होंने कहा कि जीएसटी लागू होने से हर कंपनी को अपना हिसाब-किताब दुरूस्त रखना होगा जिससे पारदर्शी व्यवस्था की शुरूआत होगी। उन्होंने कहा कि फुटवियर इंडस्ट्री पर पहले जितना ही कर रहेगा, जिससे कोई परेशानी की बात नहीं है। 

                उन्होंने बताया कि अपने उपभोक्ताओं के साथ रीटेल थेरेपी का जश्र मनाने के लिए रैड चीफ ने पिछले महीने हरियाणा में रीटेल रेफरल प्रोग्राम की शुरूआत की थी। जिसके पहले महीने के विजेता की घोषणा आज रोहतक में आयोजित इस पुरस्कार वितरण समारोह हुई है।

                हरियाणा के रैड चीफियन्स को रैड चीफ में रेफरल रीटेल थेरेपी के माध्यम से रॉयल इनफील्ड बुलेट मोटरसाइकिल जीतने का सुनहरा मौका मिला। इसके लिए उन्हें अधिकतम अंक बनाकर चेन से ऊपर तक जाना था, ये अंक रीटेल शॉपिंग के साथ उनके कोड में जुड़ रहे थे साथ ही नए उपभोक्ता भी इस चेन में जुड़ते जा रहे थे। उन्होंने कहा कि हम युवाओं की बहादुरी और ताकत को बढ़ावा देते रहे हैं और उनकी इस ताकत का जश्न मनाने के लिए हमें रॉयल एनफील्ड से बेहतर और कुछ नहीं लगा।

                पुरस्कार वितरण समारोह के दौरान पहले भाग्यशाली विजेता कुरूक्षेत्र के तरनजीत सिंह को नई रॉयल इनफील्ड देते हुए रैड चीफ के वाईस प्रेसिडेंट रिटेल रमन कुमार ने कहा कि हमारे उपभोक्ता हमारे लिए सबसे ज्यादा मायने रखते हैं और हमारा यह प्रयास हमारी इसी भावना की पुष्टि करता है। आने वाले समय में भी हम इसी तरह उनके प्रति अपने स्नेह का प्रदर्शन करते रहेंगे। उन्होंने बताया कि प्रतियोगिता अगले दो महीनों तक जारी रहेगा। हम तरनजीत सिंह को बधाई देते हैं, जिन्हें जून माह में रेफरल चेन के टॉप पर पहुंचकर रॉयल एनफील्ड मोटरसाइकिल जीतने का मौका मिला है।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
hastakshep
>