निमकी को वोट दो !

निमकी द्वारा इस राजनीतिक अभियान की शुरुआत 26 अगस्त को लखनऊ में की गई। राजनीतिक स्टाइल में ’पार्टी के वॉर रूम’ की तरह प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की गई...

एजेंसी
हाइलाइट्स

 ’स्टार भारत’ के शो ’निमकी मुखिया’ के अनोखे मार्केटिंग अभियान के तहत निमकी वोट मांगने के लिए शहर-शहर गई

 6 दिनों की अवधि में 15 शहरों के 16 लाख से ज्यादा दर्शकों तक  ’निमकी’ की पहुँच

मुंबई, 7 सितंबर 2017 - ’स्टार भारत’ अपनी अवधारणा ’’भुला दे डर, कुछ अलग कर’’ के तहत दर्शकों के लिए ऐसी कहानियाँ ला रहा है, जो उनको अपने लक्ष्य को पाने के लिए अपने भय से परे जाने के लिए प्रोत्साहित करती हैं। ’निमकी मुखिया’ ऐसी ही एक कहानी है जो एक जुझारू, अत्यधिक मस्त व मिलनसार लड़की की जीवनयात्रा दर्शाती है।

निमकी एक गरीब पिता की बेटी है। जिसने दुनिया को हमेशा गुलाबी रंग चढ़े शीशों से ही देखा है। वह हमेशा बॉलीवुड के ख्वाबों में खोई रहती है। गाँव के नीरस जीवन और पसंद का काम न होने के बावजूद निमकी बेहद मनमौजी और जीवन से भरपूर है। वह शादी की धुन में मग्न है और मस्त भी। सबसे खास बात ये है, कि राजनीति से उसका दूर-दूर तक कोई नाता नहीं है। लेकिन, कुछ संयोग और कुछ सरकार के नए नियमों की वजह से निमकी गाँव की मुखिया पद की पहली महिला दावेदार बन जाती है।

जिस तरह निमकी किसी और हिंदी सीरियल की महिला नायिका से अलग है, उसी तरह इस शो को बढ़ावा देने के लिए चैनल ने उसकी मार्केटिंग रणनीति भी ऐसी बनाई है जो अपने आप में अद्वितीय है।

इस शो के लिए किसी राजनीतिक अभियान की तरह पूरे 360 डिग्री का एक मार्केटिंग अभियान बनाया गया। जिस तरह सभी राजनीतिक अभियानों का जमीनी आधार बेहद मजबूत होता है, ठीक उसी तरह, ’स्टार भारत’ ने 28 अगस्त, 2017 से 2 सितंबर, 2017 तक मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के 15 शहरों और कस्बों में इस जमीनी अभियान की व्यापक स्तर पर शुरुआत की। 

निमकी द्वारा इस राजनीतिक अभियान की शुरुआत 26 अगस्त को लखनऊ में की गई। राजनीतिक स्टाइल में ’पार्टी के वॉर रूम’ की तरह प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की गई, जिसमें निमकी ने अपनी राजनीतिक विचारधारा के बारे में मीडिया से बातें कीं और पहली बार अपने चुनावी घोषणापत्र का अनावरण किया।

निमकी का ऐसा मानना है कि ’लड़की का फर्स्ट् ड्यूटी है उसका ब्यूटी’ जो निमकी ने मीडिया को बताया।

पत्रकारों से बात करने के बाद निमकी ने लखनऊ के सबसे बड़े ब्यूटी सैलून ’स्टाइल्ज’ में अपना ब्यूटी ट्रीटमेंट करवाया। ये अपनी तरह की अनोखी प्रेस कॉन्फ्रेंस थी, जिसमें हर किसी से निमकी ने अपने चुनाव के लिए समर्थन माँगा।

28 अगस्त से निमकी के व्यक्तित्व को प्रतिबिंबित करने के लिए रंगीन ऑटो के बेड़े सड़कों पर घुमाएं गए। ये ऑटो पूरे 5 दिन तक गलियों में घूमते रहे। इस ऑटो से निमकी के चुनाव प्रचार की नारेबाजी का शोर भी होता रहा। किसी हिंदी शो के लिए पहली बार इस तरह का पॉलिटिकल स्टाइल में डोर-टु-डोर प्रचार किया गया। दर्शकों में चुनावी घोषणा पत्र इस अनुरोध के साथ बाँटा गया, कि वे निमकी का समर्थन करने के लिए 8.30 बजे अपने टीवी पर ’स्टार भारत’ ट्यून करें। इसके अलावा निमकी की पार्टी के कार्यकर्ताओं की एक टुकड़ी ने स्टोरों, बाजारों और हेरिटेज साइट्स का दौरा किया और वहाँ निमकी का घोषणा पत्र बाँटकर उसके अनोखे राजनीतिक एजेंडा को भी समझाया। 

राजनीतिक प्रचार को बढ़ाने के लिए, एमपी और यूपी में रेडियो स्टेशनों ने निमकी के नारे भी बजाए।

ये विशाल अभियान निमकी की रैली के साथ भोपाल में 2 सितम्बर को पूरा हुआ। निमकी का पहला दौरा रेडियो स्टेशन का था, जहाँ उसने अपने राजनीतिक एजेंडा के बारे में बात की। वहाँ निमकी ने किसी राजनेता की तरह अपने विचार रखे। निमकी ने एक आकर्षक जीप में रैली निकालकर शहर के विभिन्न स्थलों का दौरा किया और नागरिकों के साथ बातचीत की।

भोपाल में मीडिया से बातचीत करने के बाद निमकी ने इंदौर में भी एक संवाददाता सम्मेलन में भाग लिया। आखिर, एक महत्वाकांक्षी राजनीतिज्ञ जीवन में कभी आराम कहाँ कर पाता है! 6 दिन से भी कम समय में 337500 घरों का दौरा किया गया और 877000 पैम्फलेट्स बाँटे गए और 16 लाख से ज्यादा लोगों से संपर्क किया गया।

ये अपनी तरह का एक अभिनव और व्यापक मार्केटिंग अभियान था, जो इस शो के विलक्षण राजनेता को ध्यान में रखकर बनाया गया था। क्योंकि, इसी तरह उस तक सभी दर्शकों का स्नेह पहुँच पाएगा।  

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।