नए युग में चीन का प्रवेश, भारतीय मीडिया को दिया भरोसा चीन शांतिपूर्ण विकास का रास्ता चुनेगा

चीन शांतिपूर्ण विकास का रास्ता चुनेगा और समान विकास की राजनयिक नीति अपनाएगा और शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व के आधार पर दूसरे देशों के साथ मैत्रीपूर्ण सहयोग पर कायम रहेगा।...

हाइलाइट्स

मा च्यैन वू ने कहा कि चीन शांतिपूर्ण विकास का रास्ता चुनेगा और समान विकास की राजनयिक नीति अपनाएगा और शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व के आधार पर दूसरे देशों के साथ मैत्रीपूर्ण सहयोग पर कायम रहेगा। कोलकाता स्थित चीनी जनरल कॉन्सुल 19वीं सीपीसी कांग्रेस की भावना से चीन और पूर्वी भारत के बीच सहयोग को बढ़ावा देता रहेगा और आशा है कि भारतीय दोस्त भी समान कोशिश कर द्विपक्षीय सहयोग का उज्ज्वल भविष्य तैयार करेंगे।

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी की 19 वीं कांग्रेस (19वीं सीपीसी राष्ट्रीय कांग्रेस) बीती 18 से 24 अक्तूबर तक पेइचिंग में आयोजित हुई। चीनी मीडिया के मुताबिक सीपीसी राष्ट्रीय कांग्रेस चीन के खुशहाल समाज के निर्माण को साकार करने और चीनी विशेषता वाले समाजवाद के विकास के महत्वपूर्ण समय में एक महत्वपूर्ण सम्मेलन है। इस पर देसी-विदेशी संवाददाता और मीडिया का ध्यान आकर्षित हुआ। इसकी रिपोर्टिंग करने के लिए 3 हजार से अधिक संवाददाता पेइचिंग पहुंचे। अब कूटनीति के तहत चीन पूरी दुनिया में मीडिया सेरू-ब-रू होकर सीपीसी राष्ट्रीय कांग्रेस के निर्णयों की जानकारी साझा कर रहा है। इसी कड़ी में 19वीं सीपीसी कांग्रेस के परिचय में कोलकाता स्थित चीनी जनरल कॉन्सुल का समारोह का आयोजन किया गया।

कोलकाता स्थित चीनी जनरल कॉन्सुलर मा च्यैन वू ने 27 अक्तूबर को 19वीं सीपीसी कांग्रेस के परिचय में स्थानीय प्रेस के लिए एक समारोह आयोजित किया। चीनी मीडिया के मुताबिक पीटीआई, इंडिया टाइम्स, इंडिया एक्सप्रेस, हिंदुस्तान टाइम्स, इंडिया टूडे, एनडीटीवी और इंडिया टीवी आदि मीडिया संस्थाओं से साठ संवाददाताओं ने समारोह में भाग लिया।

चीनी जनरल कॉन्सुलर ने स्थानीय प्रेस को 19वीं सीपीसी कांग्रेस की आम स्थितियों, चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के संविधान संशोधन और नव निर्वाचित नेतागण आदि का परिचय दिया।  चीनी मीडिया के मुताबिक इस कांग्रेस ने शी चिनफिंग के नये युग में चीनी विशेषता वाले समाजवादी विचारधारा का ऐतिहासिक स्थान दिया है और नये युग में चीनी विशेषता वाले समाजवाद का निर्माण करने के 14 बुनियादी सिद्धांत निर्धारित किये और नये युग में देश और पार्टी के निर्माण कार्यों का चतुर्मुखी विन्यास किया है।

मा च्यैन वू ने कहा कि चीन शांतिपूर्ण विकास का रास्ता चुनेगा और समान विकास की राजनयिक नीति अपनाएगा और शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व के आधार पर दूसरे देशों के साथ मैत्रीपूर्ण सहयोग पर कायम रहेगा। कोलकाता स्थित चीनी जनरल कॉन्सुल 19वीं सीपीसी कांग्रेस की भावना से चीन और पूर्वी भारत के बीच सहयोग को बढ़ावा देता रहेगा और आशा है कि भारतीय दोस्त भी समान कोशिश कर द्विपक्षीय सहयोग का उज्ज्वल भविष्य तैयार करेंगे।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।