चौकीदार-चोर-पेटकटवा गिरोह की विदाई जनता तय कर रही है

चौकीदार-चोर गिरोह की विदाई जनता मन में तय कर चुकी है। इनके पास सीबीआई के अलावा कोई अस्त्र नहीं है, जो विरोध के स्वर को दबा सके।...

बाराबंकी। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की राज्य परिषद सदस्य रणधीर सिंह सुमन ने कहा है कि चौकीदार-चोर-पेटकटवा गिरोह ने बैंक, बीमा-बिजली-सरकारी कर्मचारी, संविदा कर्मचारी, आशा बहू, शिक्षामित्र, आंगनबाड़ी, पंचायत मित्र सहित संगठित और अंसगठित मजदूरों की तनख्वाहों में बढोत्तरी न करके कटौती की है, इस तरह से आम जनता को भरपूर रोटी न मिल सके जिससे न वह जिन्दा रह सके न मर सके।

वे यहां भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा आयोजित जिला अधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन के बाद प्रदर्शनकारियों को सम्बोधित कर रहे थे।

सुमन ने कहा कि चौकीदार-चोर गिरोह की विदाई जनता मन में तय कर चुकी है। इनके पास सीबीआई के अलावा कोई अस्त्र नहीं है, जो विरोध के स्वर को दबा सके।

पार्टी के जिला सचिव बृजमोहन वर्मा ने कहा महंगाई आसमान छू रही है, सरकार गौशाला खोलने का नाटक कर रही है। क्या गौशाला में साँड़ और नीलगाय व बन्दरों को भी बन्द किया जाएगा।

पार्टी के सहसचिव ड़ॉ. कौसर हुसैन ने कहा कि किसानों की हालत दयनीय है और 2014 से सरकार ने उनकी बेहतरी के लिए कोई कार्य नहीं किया है।

पार्टी के सहसचिव शिवदर्शन वर्मा ने कहा कि सरकार आरक्षण को हथियार बनाकर सत्ता में आने का जो ख्वाब देख रही है वह मात्र सरकार की जुमलेबाजी हैं। जब नौकरियां ही नहीं है तो आरक्षण कहाँ देगी सरकार?

किसान सभा के जिलाध्यक्ष विनय कुमार सिंह ने कहा कि राफेल घोटाले से लेकर बैंक घोटालों में सत्तारूढ़ दल का हाथ है इन घोटालों की वजह से देश की अर्थ व्यवस्था छिन्न-भिन्न हो गई है।

प्रदर्शन में गिरीशचन्द, रामनरेश, प्रवीनकुमार, दलसिंगार, मुनेश्वरबक्स, राजेन्द्र बहादुर सिंह एडवोकेट, विनीत कुमार वर्मा, अभिषेक वर्मा, जैनुल आबदीन, सुरेश यादव, वीरेन्द्र कुमार, महेन्द्र, राजेश सिंह, रमेश सिंह, दिग्विजय सिंह, मुशाहिद अली, जियालाल वर्मा, सत्यवान, अमर सिंह परमेन्दर वर्मा विनोद कुमार यादव आदि प्रमुख कम्युनिस्ट नेता शामिल थे।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।