चोर ही चौकीदार है, मोदी के भ्रष्टाचार पर सपा-बसपा की चुप्पी आपराधिक

क्षेत्रीय दलों ने मोदी की मदद के लिए चुप्पी साध रखी है यह देश के लिए खतरनाक सन्देश है।...

चोर ही चौकीदार है, मोदी के भ्रष्टाचार पर सपा-बसपा की चुप्पी आपराधिक

बाराबंकी। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य परिषद सदस्य रणधीर सिंह ‘सुमन’ ने कहा हाँ कि राफेल घोटाला, नोटबन्दी घोटाला, जीएसटी घोटाला और अब सीबीआई जैसी संस्था को नष्ट कर मोदी देश को दिवालिया बनाने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

श्री सुमन ‘चोर ही चौकीदार’ है, नारे के साथ निकले भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के जुलूस में शामिल लोगों को सम्बोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि रिजर्व बैंक आफ इण्डिया को डरा धमकाकर 3.6 लाख करोड़ रूपये लेकर अपनी विदेश यात्राओं के मद में खर्च कराना चाह रहे हैं।

पार्टी के जिला सचिव बृज मोहन वर्मा ने कहा कि पाटी मोदी के भ्रष्टाचारों का खुलासा करने के लिए बराबर जुलूस प्रदर्शन कर रही है वहीं क्षेत्रीय दलों ने मोदी की मदद के लिए चुप्पी साध रखी है यह देश के लिए खतरनाक सन्देश है।

पार्टी के सहसचिव डा. कौसर हुसेन ने कहा कि सत्तारूढ़ दल अपने भ्रष्टाचारों को छिपाने के लिए मन्दिर राग अलाप रही है उसको मन्दिर-मस्जिद से कोई लेना-देना नहीं है।

सहसचिव शिव दर्शन वर्मा ने कहा कि योगी सरकार किसानों की धान खरीद मामले में असफल हो चुकी है और किसानों का धान विचैलिए बारह सौ रूपये कुन्तल खरीद रहे हैं सरकार विचैलिए को फायदा देने के लिए धान खरीद की नौटंकी कर रही है।

किसान सभा जिलाध्यक्ष विनय कुमार सिंह ने कहा कि किसान समस्याओं लेकर 29 व 30 दिसम्बर को दिल्ली प्रदर्शन करेगी जिसमें जिले से काफी संख्या में किसान जायेंगे.

जुलूस में राम नरेश वर्मा, दल सिंगार, गिरीश चन्द, अमर सिंह प्रधान, मुनेश्वर बक्स, प्रवीन वर्मा, महेन्द्र यादव, अशोक मौर्य, परमेन्द्र वर्मा, नवीन वर्मा, सहदेव वर्मा, रामविलास, आशीष शुक्ला, राजेन्द्र, बहादुर सिंह, करमवीर सिंह, सरदार भूपेन्द्र पाल सिंह अधिवक्ता गिरीश चन्द, गौरी रस्तोगी आदि प्रमुख कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।