लगता है इमरजेंसी की घोषणा होने वाली है - अरुंधति राय

नोटबंदी के बाद से 15 लाख नौकरियां गईं, गरीबों की जेब में हाथ डालकर पैसे निकाल लिए गए। भारत में अल्‍पसंख्‍यक होना गुनाह हो गया है और हम लोग खतरनाक वक्‍त में रह रहे हैं।...

देशबन्धु
लगता है इमरजेंसी की घोषणा होने वाली है - अरुंधति राय

नई दिल्ली, 30 अगस्त। भीमा कोरेगांव मामले में हुई 5 मानवाधिकारवादियों की गिरफ्तारी पर आज लेखिका अरुंधति राय ने प्रेस कांफ्रेस कर कहा कि इस समय जो हो रहा है वह पूरी तरह खतरनाक है।

5 मानवाधिकारवादियों की गिरफ्तारी के मुद्दे पर अरूंधति राय, प्रशांत भूषण, अरूणा राय, जिग्नेश मेवाणी आदि ह्यूमन राइट सिविल लिबर्टी संगठनों के नेताओं ने दिल्ली के प्रेसक्लब में पत्रकार वार्ता की।

देश के कई हिस्सों में वामपंथी समर्थकों की गिरफ्तारी की निंदा करते हुए अरुंधति ने कहा कि भाजपा और पीएम मोदी अपनी लोकप्रियता खो रहे हैं जिस वजह से इस तरह के कदम उठाए जा रहे हैं।  अरुंधति ने कहा कि ऐसा लगता है कि इमरजेंसी की घोषणा होने वाली है।

अरुंधती ने कहा कि देश में 'मॉब लिंचिंग और दिनदहाड़े हत्या करने वाले खुलेआम घूम रहे हैं जबकि दलित अधिकारों के लिए लड़ने वाले कार्यकर्ताओं के घर हो रही छापेमारी से यह साफ पता चलता है कि भारत कहां जा रहा है।'

हम वो आजादी खोने नहीं देंगे जिसपर हमें नाज है

भाजपा पर हमला बोलते हुए रॉय ने कहा, 'यह चुनाव की तैयारी है।  भारतीय संविधान और बोलने की आजादी के खिलाफ एक कोशिश है। लेकिन, हम ऐसा नहीं होने देंगे। हम वो आजादी खोने नहीं देंगे जिसपर हमें नाज है।'

नोटबंदी पर अरुंधती ने कहा कि नोटबंदी के बाद से 15 लाख नौकरियां गईं, गरीबों की जेब में हाथ डालकर पैसे निकाल लिए गए। भारत में अल्‍पसंख्‍यक होना गुनाह हो गया है और हम लोग खतरनाक वक्‍त में रह रहे हैं।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।