59 मिनट में एक करोड़ लोन देने वाले न्यू इंडिया में दीपावली पर किसान लिखेंगे खून से खत

मोदीजी के इस न्यू इंडिया में 34 दिन से किसान ठंड में धरना दे रहे हैं और अब किसानों ने घोषणा कर दी है कि वे दीपावली पर धरनास्थल से खून से खत लिखेंगे।...

59 मिनट में एक करोड़ लोन देने वाले न्यू इंडिया में दीपावली पर किसान लिखेंगे खून से खत

1 crore loan in 59 minutes & Deepawali in New India

नई दिल्ली, 05 नवंबर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा की है कि बहुत कम कागजी कार्रवाई के 59 मिनट में एक करोड़ लोन मिल जाएगा। लेकिन मोदीजी के इस न्यू इंडिया में 34 दिन से किसान ठंड में धरना दे रहे हैं और अब किसानों ने घोषणा कर दी है कि वे दीपावली पर धरनास्थल से खून से खत लिखेंगे।

आगरा में किसान आंदोलन

Farmer's movement in Agra

आगरा से जारी किसानों की एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि 34वें दिन भी ठंड से सुकड़ता हुआ किसान धरना स्थल पर डटा रहा, किसानों की तबीयत ठंड बढ़ने की वजह से लगातार खराब हो रही है, आगरा प्रशासन ने डाक्टर भेजना भी उचित नहीं समझा है जब कि पीडित किसान लगातार प्राथमिक उपचार कि मांग कर रहें हैं, उसके बावजूद भी किसान अपनी मांगों के प्रति धरना स्थल पर दिन रात डटा हुआ है।

किसानों ने धरना स्थल पर ही बैठक करके विधायक रामप्रताप चौहान के घर हुए धरना प्रदर्शन की समीक्षा की। किसानों ने तय किया है कि दिवाली वाले दिन किसान धरना स्थल से ही प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम खूनी खत लिखकर,  भाजपा के नेताओं द्वारा भूमि अधिग्रहण में 2007से दिये सहयोग, और अब अनदेखी को पत्र के माध्यम से धरनारत किसान लिखकर अपनी बात भेंजेंगे।

किसानों ने साफ कहा है कि बिना जमीन वापसी के पीडित किसानों की आर्थिक मजबूती हमारे लिए दीपावली मनाना संभव नहीं है।  दीपावली योगी सरकार चाहे तो मनवा सकती है हमारी छोटी सी तीन मांगे हैं जिन्हें हम विधायक राम प्रताप जी के दरबार में रख कर आए हैं। यह तीनों मांगे उत्तर प्रदेश सरकार मान कर किसानों की दीपावली मनवा सकती है अन्यथा किसान खून से खत लिखकर धरना स्थल पर ही धरनारत रहेंगें।

किसानों ने अपने सम्पर्क को तेज करने का निर्णय लिया है, आज की अध्यक्षता बड़े बाबू रविन्द सिंह ने की और संचालन राजपाल फौजी ने किया। आज धरने पर ब्रज बहादुर सिंह सिकरवार, देव लाल बघेल, सर्विस सिकरवार, हरवीर सिंह सिकरवार, बंसीलाल, ओम ओमबीर पंवार, ताराचंद, नारायण सिंह बघेल, जोगिंदर सिंह चौहान, रमेश, रामस्वरूप मास्टर, महेश सिकरवार, उदयवीर, छोटेलाल, जसवीर सिंह, श्री कृष्ण सिकरवार, शिशु पाल बघेल, कुशल पाल नादऊ,सुरेंद्र यादव, लाखन सिंह त्यागी,  मुन्ना लाल बघेल, सचिन सिकरवार, धर्मेंद्र सिकरवार, किशोर सिकरवारआदि पीडित किसान रहे।

धरनास्थल पर रविन्दर सिंह पूर्व प्रधान द्वारा समोसे और पेठा का वितरण कर धरना स्थल पर किसानों के साथ हर तरह के सहयोग का वायदा किया।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।