देश में फासीवाद की आहट, UP को RSS योगी की अगुवाई में फासीवाद की प्रयोगस्थली बनाना चाहता

बैठक की राय थी कि प्रदेश में सामाजिक सद्भाव के लिए योगी सरकार सबसे बड़े खतरे के रूप में उभर रही है और उत्तर प्रदेश भय, आतंक व अराजकता के आगोश में तेजी से बढ़ रहा है।...

हाइलाइट्स
  • फासीवाद के खिलाफ संघर्ष के लिए यूपी जनमंच का हुआ गठन
  • सांस्कृतिक, सामाजिक, शैक्षणिक, आर्थिक जन सवालों को उठायेगा

लखनऊ 23 मई 2017, देश में फासीवाद की आहट सुनाई दे रही है और उ0 प्र0 को आरएसएस योगी की अगुवाई में फासीवाद की प्रयोगस्थली बनाना चाहता है। यह बात जन मंच की स्थापना बैठक में उभर कर आयी।

जन मंच की आज स्थापना बैठक लखनऊ में 12 बजे से शुरू हुई और 4 बजे तक चली।

बैठक की राय थी कि प्रदेश में सामाजिक सद्भाव के लिए योगी सरकार सबसे बड़े खतरे के रूप में उभर रही है और उत्तर प्रदेश भय, आतंक व अराजकता के आगोश में तेजी से बढ़ रहा है।

बैठक में यह भी नोट किया गया कि शासक विपक्ष भी फासीवाद बढ़ाने में देश और प्रदेश में मददगार साबित हो रहा है। शासक विपक्ष भी फासीवाद के मुख्य स्रोत कारपोरेट वित्तीय पूंजी के लिए काम कर रहा है और हिन्दुत्व जो हिन्दु धर्म की मूल भावना के विरूद्ध है पर चुप्पी साध रखा है।

बैठक ने फासीवाद विरोधी ताकतों को एक मंच पर लाने और लोकतांत्रिक, धर्मनिरपेक्ष, जनपक्षीय राष्ट्रीय नीति के वैकल्पिक कार्यक्रम पर अमल करने का फैसला लिया।

बैठक में फैसला हुआ कि जन मंच तात्कालिक महत्व के सामाजिक, सांस्कृतिक, शैक्षणिक, आर्थिक सवालों को उठायेगा। हिन्दुत्व की अवधारणा पर विकसित किए जा रहे राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के फासीवादी राष्ट्रवाद के विरूद्ध ब्रिटिश उपनिवेशवाद विरोधी 1857 की पहली आजादी की लड़ाई के राष्ट्रवाद को और उसके बाद 1947 तक चले आजादी आंदोलन की सच्ची देशभक्ति को जनता के बीच में ले जायेगा।

बैठक में प्रो0 बासंती रमन, पूर्व आई.जी. एस0 आर0 दारापुरी, गांधी इंस्टीट्यूट की रजिस्ट्रार मुनीजा रफीक खान, इंडिया साइंस फोरम की डा0 वीना गुप्ता, भारत ज्ञान विज्ञान समिति के प्रदेश सचिव संजीव सिन्हा, गोपाल कृष्ण, कार्ड के संयोजक अतहर हुसैन, पत्रकार विनय कांत मिश्र, शिक्षा अधिकार आंदोलन के नेता डा0 रूपेश, किसान नेता रमेश सिंह को जन मंच का संयोजक बनाया गया।

इसके अलावा स्वराज अभियान की राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य अखिलेन्द्र प्रताप सिंह, जय किसान आंदोलन के राष्ट्रीय सह संयोजक अजीत सिंह यादव, वर्कर्स फ्रंट के प्रदेश अध्यक्ष दिनकर कपूर, वर्कर्स फ्रंट के प्रदेश महामंत्री राजेश सचान, हाईकोर्ट के अधिवक्ता नीतिन मिश्रा, कमलेश सिंह, स्वराज अभियान के अनमोल को संयोजन समिति सदस्य चुना गया।

इसके समन्वयक की जिम्मेदारी डा0 वीना गुप्ता को दी गयी जिन्हें स्वराज अभियान की राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य अखिलेन्द्र प्रताप सिंह, पूर्व आईजी एस0आर0 दारापुरी और वर्कर्स फ्रंट के प्रदेश अध्यक्ष दिनकर कपूर सहयोग करेंगे।

बैठक में आर0डी0 कुरील, ग्रेटर नोएडा इंजीनियरिंग कालेज के अध्यापक डा0 ए0के0 सिंह, अजय राय, अधिवक्ता राज नारायण मिश्र, श्याम मनोहर आदि भी शामिल हुए।

बैठक में गांधी इंस्टीट्यूट के डारेक्टर प्रो0 दीपक मलिक, मानवाधिकार कार्यकत्री तीस्ता शीतलवाड़, राष्ट्रीय किसान मजदूर पार्टी के अध्यक्ष बी0एम0 सिंह, सामाजिक कार्यकत्री नसीम खान, बदायूं के डा0 शकील अहमद अंसारी के जन मंच में शामिल होने का स्वागत किया गया।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।