केंद्रीय डीजी रैंक की अधिसूचना जारी : 1984 बैच के अफसर डीजीपी डीके पाण्डेय का नाम नहीं

पलामू के बकोरिया में 12 लोगों की मौत का मामला, फर्जी सरेंडर व गले में सांप लटकाने को लेकर पांडेय पिछले दिनों चर्चा में रहे थे. एडीजी एमवी राव ने पांडेय के खिलाफ गंभीर आरोप लगाये थे. ...

अतिथि लेखक

विशद कुमार

रांची : 1984 बैच के झारखंड कैडर के आइपीएस और वर्तमान में डीजीपी डीके पांडेय को इस बार भी निराशा हाथ लगी है. दूसरे प्रयास में भी केंद्र सरकार ने उनको डीजी रैंक में इंपैनल नहीं किया है. पिछले बार इनके बैच के कई लोग इंपैनल हुए थे, लेकिन इनको डीजी इक्यूवैलेंट रैंक में ही रखा गया था. इस बार भी इनके बैच के हरियाणा कैडर के आइपीएस एसएस देसवाल को डीजी रैंक में इंपैनल कर दिया गया है. केंद्र की ओर से 15 मार्च को जारी अधिसूचना में डीजी रैंक में पांडेय का नाम नहीं है.

 नहीं बन पाएंगे केंद्रीय बलों के डीजी

केंद्र में डीजी रैंक में इंपैनल नहीं होने के कारण डीके पांडेय सीआरपीएफ या किसी और अर्धसैनिक बलों के डीजी नहीं बनाए जा सकते हैं.

 वे किसी एजेंसी के निदेशक या अर्धसैनिक बलों के विशेष डीजी ही बनाये जा सकते हैं. किसी आइपीएस अधिकारी की दिली तमन्ना होती है कि वह केंद्र में अर्धसैनिक बल का डीजी बने. पांडेय तीन साल से ज्यादा समय से झारखंड के डीजीपी हैं. यह इनका रिकॉर्ड है.

 कई मामलों से रहे चर्चा में

पलामू के बकोरिया में 12 लोगों की मौत का मामला, फर्जी सरेंडर व गले में सांप लटकाने को लेकर पांडेय पिछले दिनों चर्चा में रहे थे. एडीजी एमवी राव ने पांडेय के खिलाफ गंभीर आरोप लगाये थे. फिलवक्त सीबीआई जांच कराने को लेकर हाइकोर्ट में सुनवाई चल रही है. 

 पांडेय के बैच के दूसरे अफसर हो गये इंपैनल

 इन्हें मिला डीजी रैंक

एसएस देसवाल (1984), हरियाणा

कुमार राजेश चंद्रा (1985), बिहार

अनूप कुमार सिंह (1985), गुजरात

एके सुरोलिया (1985), गुजरात

ऋषि राज सिंह (1985), केएल

सुबोध कुमार जायसवाल (1985), महाराष्ट्र

हितेश चंद्र अवस्थी (1985), उत्तरप्रदेश

अरुण कुमार-01 (1985), उत्तरप्रदेश

अमूल्य कुमार पटनायक (1985), यूटी

विरेंद्र (1985), पश्चिम बंगाल

यह हुए डीजी इक्यूवैलेंट

पीएस पुरोहित (1985), एम

संजय कुमार (1985), हरियाणा

एसके मिश्रा (1985), जम्मू-कश्मीर

लोकनाथ बहेरा (1985), केएल

बीएम कुमार (1985), मध्यप्रदेश

ओमप्रकाश गलहोत्रा (1985), राजस्थान

सुखदेव सिंह सिद्धू (1985), उत्तरप्रदेश

राजेश प्रताप सिंह (1985), उत्तरप्रदेश

प्रभात सिंह (1985), यूटी

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।