पाकिस्तान में दो हिन्दू व्यापारियों की हत्या, विरोध में बाज़ार हंद, सरकार ने कहा गिरफ्तार होंगे हत्यारे

पाकिस्तान के थार जिले में दो हिन्दू व्यापारियों की गोली मारकर हत्या कर दी गई, जिसके विरोध में व्यापारियों ने बाज़ार बंद कर दिया और प्रदर्शन कर रहे हैं।...

Two Hindu businessmen killed in Thar district in Sindh (Pakistan)

पाकिस्तान के थार जिले में दो हिन्दू व्यापारियों की गोली मारकर हत्या कर दी गई, जिसके विरोध में व्यापारियों ने बाज़ार बंद कर दिया और प्रदर्शन कर रहे हैं।

द ट्रिब्यून (पाकिस्तान) की खबर के मुताबिक दो हिन्दू अनाज व्यापारियों को शुक्रवार की सुबह पाकिस्तान के मिठी, थारपारकर में गोली मार दी गई। यह घटना तब हुई जब दो बाइक सवार डकैत व्यापारियों से धन छीनने में नाकामयाब हो गए।

दोनों व्यवसायी भाई थे, जिनकी पहचान दिलीप कुमार और चन्द्र माहेश्वरी के रूप में हुई थी। अखबार ने स्थानीय लोगों के हवाले से बताया है कि, यह घटना सुबह-सुबह हुई जब दोनों भाइयों ने अनाज बाजार में अपनी दुकान खोलीं।

मिठी पुलिस स्टेशन के एक अधिकारी के हवाले से अखबार ने कहा है कि "बाइक सवार डाकूओं ने हिंदू भाइयों से पैसा छीनने का प्रयास किया और प्रतिरोध करने पर, उन्होंने उन्हें गोली मार दी।" उन्होंने कहा कि यह शहर में पहली डकैती की घटना है।

घटना के बाद स्थानीय व्यापारियों ने थार जिले में अपना कारोबार बंद कर दिया है।

रिपोर्टों से पता चलता है कि पुलिस घटनास्थल पर देर तक पहुंची क्योंकि जिले के अधिकांश सुरक्षा कर्मियों को पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के मीरपुरखस में होने वाले जलसे के लिए तैनात किया गया है, जहां आसिफ अली जरदारी को संबोधित करना है।

Two Hindu businessmen killed in Thar districtअखबार के मुताबिक रिपोर्ट लिखे जाने तक, व्यापारियों ने इस घटना के खिलाफ थारापकर से मुख्य सड़क को अवरुद्ध कर दिया है।

सिंध के गृह मंत्री सोहेल अनवर सियाल ने इस घटना के बारे में नोटिस लिया और एसएसपी उमरकोट को निर्देश दिया कि वह मामले की तत्काल जांच शुरू करे।

सियाल ने कहा, "हम जल्द ही हिंदुओं के भाइयों की हत्या के विवरण मीडिया के साथ साझा करेंगे और हत्यारों को गिरफ्तार करेंगे"।

Photo with courtesy tribune.com.pk

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।