“आज का कश्मीर : समस्या और निदान” पर बोलेंगे यूसुफ तारीगामी

कश्मीर जैसे अहम सवाल पर हमको यह चर्चा कराना ज़रूरी है कि वहां की अवाम अपने और मुल्क की बेहतरी के लिए क्या सोचती है और इस पूरे मामले का हल क्या है? यह चर्चा इस समय के दौर में और भी ज़रूरी हो गयी है। ...

लखनऊ। कामरेड अर्जुन प्रसाद की स्मृति में आज का कश्मीर : समस्या और निदान

विष पर परिसंवाद आयोजित किया जाएगा। इस परिसंवाद में जम्मू-कश्मार के विधायक यूसुफ तारीगामी, पूर्व सूचना आयुक्त वजाहत हबीबुल्लाह व पूर्व माकपा सांसद सुभाषिनी अली संबोधित करेंगी।

आयोजकों की तरफ से जारी विज्ञप्ति का मूल पाठ निम्नवत् है -

कामरेड अर्जुन प्रसाद की स्मृति में परिसंवाद

आज का कश्मीर : समस्या और निदान

13 जुलाई  2017 - शाम  5 बजे से

विस्वेसरैया  सभागार, पी डब्लू डी परिसर, हजरतगंज, लखनऊ

वक्ता : कामरेड युसूफ तारीगामी ( विधायक,जम्मू कश्मीर विधानसभा )

श्री वजाहत हबीबुल्लाह ( पूर्व चेयरमैन, माइनॉरिटी कमीशन एवं पूर्व  सूचना आयुक्त, भारत सरकार )

कामरेड सुभाषिनी अली ( सदयस्य, पोलिट ब्यूरो, cpim)

कश्मीर जैसे अहम सवाल पर हमको यह चर्चा कराना ज़रूरी है कि वहां की अवाम अपने और मुल्क की बेहतरी के लिए क्या सोचती है और इस पूरे मामले का हल क्या है? यह चर्चा इस समय के दौर में और भी ज़रूरी हो गयी है। कामरेड अर्जुन दा स्मृति समारोह समिति की और से 13 जुलाई को शाम 5 बजे से यह परिसंवाद प्रस्तावित है जिसमे तीन अहम वक्ता शामिल हो रहे हैं।

कामरेड यूसुफ तरिगामी सिर्फ वहां विधान सभा में विधायक नही है, वो अमनपसंद आवाम की आवाज हैं। वोह लगातार कश्मीर की मेहनतकश अवाम के हक के लिए लड़ने वाले हैं और आतंकवादियों के हमेशा निशाने पर रहने पर भी वोह अपनी जिमेदारी को बखूबी पूरी करते आ रहे हैं। उनके उपर कितने आतंकी हमले हुए लेकिन वोह उनके इरादों को डिगा नहीं पाए। कामरेड तारीगामी को जेड प्लस सुरक्षा प्रदान होना दीखता है की आन्दोलन का प्रभाव कितना गहरा है। ऐसे जुझारू साथी से संवाद बेहद रोमांचकारी और तथ्यपरक होगा।

 श्री वज़ाहत हबीबुल्लाह देश के अल्पसंख्यक आयोग के चैयरमैन रहे, भारत सरकार के पहले सूचना आयुक्त रहे और कश्मीर का गहन अध्ययन किया और रिपोर्ट भी बनाई।

कामरेड सुभाषणी अली कानपूर से पूर्व सांसद है, माकपा की पोलित ब्यूरो सदस्य है और देश के वांम आंदोलन का प्रमुख नाम है।

इस अति महत्वपूर्ण परिसंवाद का सफलतापूर्वक आयोजन लखनऊ के सभी अमनपसंद, जनवादी संगठनों और व्यक्तियो की ज़िम्मेदारी है, उनके सांझा प्रयास से ही इसका आयोजन संभव है।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।