दलितों पर फायरिंग की जांच के लिए भाकपा माले की टीम मिर्जापुर रवाना

भाकपा (माले) की राज्य इकाई ने दलितों के पट्टे की भूमि पर कब्जे को लेकर मिर्ज़ापुर जिले के हलिया थानांतर्गत कोलहा गांव में शुक्रवार को हुए संघर्ष व फायरिंग की घटना पर गहरी चिंता प्रकट की है।...

दलितों पर फायरिंग की जांच के लिए भाकपा माले की टीम मिर्जापुर रवाना

लखनऊ, 11 अगस्त।

भाकपा (माले) की राज्य इकाई ने दलितों के पट्टे की भूमि पर कब्जे को लेकर मिर्ज़ापुर जिले के हलिया थानांतर्गत कोलहा गांव में शुक्रवार को हुए संघर्ष व फायरिंग की घटना पर गहरी चिंता प्रकट की है।

पार्टी के राज्य सचिव सुधाकर यादव ने घटना से जुड़े सारे तथ्यों का पता करने के लिए भाकपा (माले) की एक जांच टीम उक्त गांव में भेजने का फैसला किया। उन्होंने कहा कि जमीन को लेकर दलितों और सवर्ण भूस्वामियों के बीच हुए संघर्ष में महिलाओं समेत कई गंभीर रूप से घायल हैं। दलितों पर लाइसेंसी बंदूक से फायरिंग की खबर मिली है। कहा कि कमजोर वर्ग को न्याय दिलाने में स्थानीय प्रशासन की भूमिका पर भी गौर करना जरूरी है। योगी सरकार में वैसे भी दलितों का उत्पीड़न बढ़ा है। वोट के लिए भाजपा दलित प्रेम का नाटक करती है, जबकि हकीकत में दलितों को प्रदेश की जेलों में ठूंसा गया है। उनकी हत्या और उनपर हमले की घटनाएं बढ़ी हैं। प्रशासन दबंगों के पक्ष में हर जगह खड़ा दिखता है। लोकतंत्र का गला घोंटा जा रहा है।

उन्होंने बताया कि मिर्जापुर के घटनास्थल का दौरा करने वाली भाकपा (माले) की जांच टीम राज्य स्थायी समिति के सदस्य शशिकांत कुशवाहा (चंदौली), राज्य कमेटी की सदस्य जीरा भारती (मिर्ज़ापुर) और जिला सचिव नंदलाल को लेकर गठित की गई है। यह टीम शनिवार को घटनास्थल के लिए रवाना हो गई। टीम के सदस्य पीड़ितों से भी मिलेंगे।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।