पाकिस्तान के साथ सभी व्यापारिक सम्बन्ध तुरन्त समाप्त करे सरकार

Government should end all trade relations with Pakistan immediately. पाकिस्तान के साथ सभी व्यापारिक सम्बन्ध तुरन्त समाप्त करे सरकार...

बाराबंकी। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (Communist Party of India) के राज्य परिषद सदस्य रणधीर सिंह सुमन (Randhir Singh Suman) ने कहा है कि पुलवामा में शहीद अर्द्ध सैनिक बल को जवानों को सच्ची श्रद्धाजंलि (True pardon for martyrs of paramilitary force in Pulwama) यही होगी कि सरकार पाकिस्तान के साथ व्यापारिक सम्बन्धों को तुरन्त समाप्त कर पाकिस्तान की आर्थिक रीढ़ की हड्ड़ी तोड़ने का काम करें।

श्री सुमन पुलवामा मे अर्द्ध सैनिक बलों के जवानों की शहादत पर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा ग्राम सेनपुरवा बंकी में आयोजित श्रद्धाजंलि सभा को सम्बोधित कर रहे थे।

श्री सुमन ने आगे कहा कि नौजवानों की शहादत से पूरा देश शहीद नौजवानों के साथ खड़ा है। लेकिन कुछ साम्प्रादायिक शक्तियां देश की एकता और अखण्ड़ता को कमजोर करने के लिये राजनीति कर रही हैं, जिसकी हम सब निंदा करते हैं।

श्रद्धाजंलि सभा को सम्बोधित करते हुये पार्टी जिला सचिव बृजमोहन वर्मा ने कहा कि शहीद होने वाले नौजवान हमारे घरों के हैं, जो मजदूर, किसान घरों से आते हैं। उनको पेंशन तक नहीं दी जा रही है। सरकार को चाहिये कि पेंशन सुविधा बहाल करते हुये अन्य सुविधा प्रदान करे।

जिला सह-सचिव शिवदर्शन वर्मा ने कहा कि जिस तरह मजदूर और किसान के हालात अच्छे नहीं है, उसी तरह अर्द्ध सैनिक बलों को जो सुविधायें मिलनी चाहिये, नही मिल पा रही हैं।

श्रद्धाजंलि सभा को प्रवीन कुमार, किसान सभा अध्यक्ष विनय कुमार सिंह, मुनेश्वर बक्श वर्मा ने भी सम्बोधित किया। सभा की अध्यक्षता पूर्व प्रधान अरुण वर्मा ने की।

सभा में महेन्द्र यादव, रामनरेश, जैनुल आबदीन, मयूर सिह, गिरीश चन्द्र वर्मा, परमेन्द्र वर्मा, अशोक मौर्य, वीरेन्द्र कुमार वर्मा, कुलदीप, ताराचन्द्र, अशोक कुमार राव, आशुराम, अनुपम वर्मा, नन्हेलाल, रामविलास वर्मा, आदि मौजूद रहे। सभा के पूर्व 2 मिनट का मौन रख शहीदों को श्रद्धाजंलि अर्पित की गई।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।