गौ आतंकियों की हिंसा से पीड़ित किसानों हिंदू युवा वाहिनी के गुंडों द्वारा मारे गए गुलाम मोहम्मद के परिजनों से मिला जांच दल

ग्रेटर नॉएडा में गौ रक्षकों की हिंसा से पीड़ित किसानों और बुलंदशहर में हिंदू युवा वाहिनी के गुंडों द्वारा पीट-पीटकर हत्या किए गए गुलाम मोहम्मद के परिजनों से मिला जांच दल...

लखनऊ 9 मई 2017. जेवर (ग्रेटर नॉएडा) में गाय ले जा रहे किसानों पर गौ रक्षकों द्वारा जानलेवा हमला और बुलंदशहर में हिन्दू युवा वाहिनी के गुंडों द्वारा बुजुर्ग गुलाम मोहम्मद की पीट-पीटकर की गई हत्या की घटना के बाद स्वतंत्र जांच दल पीड़ितों के गांव पहुंचा.

रिहाई मंच प्रवक्ता अनिल यादव ने बताया कि वरिष्ठ पत्रकार अमलेंदु उपाध्याय, रिहाई मंच महासचिव राजीव यादव,  सामाजिक कार्यकर्ता फरह शकेब,  इंसाफ इंडिया के डॉ नेहाल हैदर ने 2 मई को बुलन्दशहर ज़िले के पहासू थाना अंतर्गत सोही गावँ में हिन्दू युवा वाहिनी के गुण्डों द्वारा पीट-पीटकर मार डाले गए 55 वर्षीय गुलाम अहमद के परिजनों व ग्रामीणों से मुलाक़ात की. मुस्लिम युवक और हिन्दू युवती के घर से जाने के बाद हिन्दू युवा वाहिनी के गुंडों ने मुस्लिम समाज की महिलाओं पर हमले किए और उसके बाद बाग से उठाकर गुलाम मोहम्मद की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी.

रिहाई मंच प्रवक्ता अनिल यादव ने बताया कि वरिष्ठ पत्रकार अमलेंदु उपाध्याय, रिहाई मंच महासचिव राजीव यादव,  सामाजिक कार्यकर्ता फरह शकेब,  इंसाफ इंडिया के डॉ नेहाल हैदर, एकता मंच के सतीश चोपड़ा, मो0 नाजिम और यामीन ने ग्रेटर नोएडा के जेवर थाना अंतर्गत सिरसा माँझीपुर खादर गावँ के भूपसिंह और जबरसिंह के घर जाकर उनसे व उनके परिजनों से मुलाकात की. जबर सिंह ने बताया कि छोटे-छोटे बच्चों के दूध के खातिर गाय ला रहे थे. उनसे बार-बार कहा पर वे एक नहीं माने. मुझे और मेरे साथ गए भूप सिंह को बुरी तरह पीटा. पीटने के बाद थाने ले जाकर उल्टे हम पर ही मुकदमा दर्ज करवा रहे थे.

जाँचदल जब जबर सिंह के घर पहुंचा तो वो पसलियों में लगी चोटों के दर्द से कराह रहे थे. जबर सिंह ने बताया कि पैसों के आभाव में वह इलाज नहीं करवा पा रहे हैं. उन्होंने बताया कि पीटने वाले पंडित जाति के लोगों का उनपर काफी दबाव है. केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा का संसदीय क्षेत्र होने के कारण मामले को रफा-दफा कर समझौता करने का उन पर दबाव डाला जा रहा है. भूप सिंह भी इसी तरह दर्द से पीड़ित अपने घर के सामने की मड़ई में पड़े थे.

रिहाई मंच महासचिव राजीव यादव ने पीड़ित के घर से ही जिलाधिकारी से बात कर पीड़ितों को चिकित्सा और उनकी सुरक्षा की मांग की. जिलाधिकारी ने आश्वासन दिया कि वो इसे देखते हैं और सीएमओ से बात करते हैं.

जांच दल में शामिल डॉ निहाल हैदर ने जबर सिंह को निरीक्षण कर कहा कि इनकी पसलियों में चोट काफी है और जल्द से जल्द इनको अस्पताल में भर्ती करवाना चाहिए. परिजनों से बात कर एम्बुलेंस को फोन हुआ.

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।