डियर मोदी जी! GST पर गयी सरकार तुम्हारी : पैंथर्स

पैंथर्स नेता ने कहा मोदी सरकार आने से पहले अच्छे दिनों का लालच विज्ञापनों में खूब दिया और जनता ने उस लालच में आकर अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मार दी।...

दिल्ली प्रदेश नेशनल पैंथर्स पार्टी के वरिष्ठ नेता राजीव जौली खोसला ने मोदी सरकार को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि 1 जुलाई से जीएसटी लागू होने पर मोदी जी गयी सरकार तुम्हारी।

श्री खोसला ने कहाकि आज कश्मीर से कन्याकुमारी तक जवान हो, किसान हो, शिक्षक हो या डाक्टर या विधार्थी, सभी मोदी सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ मन ही मन में आक्रोश बढ़ाते जा रहे हैं। जम्मू-कश्मीर में आये दिन जवान मरते जा रहे हैं, मध्य प्रदेश में किसानों के नाम पर हो रही राजनीति से देशवासियों का नुकसान हो रहा है। डाक्टरों पर भी लाठी-डंडे बरसाए जा रहे हैं, शिक्षकों का भी बुरा हाल है, विधार्थी भी नाखुश हैं, मगर मोदी सरकार विज्ञापनों के नाम पर अरबो-खरबों रुपये खर्च कर विज्ञापन कम्पनियों को बढ़ावा दिये जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि आज एअर इंडिया भी बिकने की कगार पर है, दुर्भाग्य ही बात है कि बाकी हवाई जहाज कम्पनियों फायदे भी चल रही हैं और एअर इंडिया घाटे में, जब यह औने-पौने में बिक जाएगी तो यह भी दिन दुगनी रात चैगनी तरक्की करेगी। आज हकीकत में किसानों की दुर्दशा देखी जाय तो वह दर्दनीय है, जो किसान जमीन में उपज पैदा करता है उसे तो खाने तक के लाले पड़े रहते हैं व जिन्होंने किसानों को अपनी चुंगल में फंसा रखा है वे मौज ले रहे हैं और खुदरा बाजार में खनिज पदार्थ दोगुने दामों पर बिक रहे हैं। इसमें साफ कमी केन्द्र व राज्य सरकारों की है, मगर सरकारों के साथ-साथ अफसरशाही भी आंख-कान-नाक बंद करके बैठे हुए है। यह भारतवासियों के लिए बड़े दुर्भाग्य की बात है।

पैंथर्स नेता ने कहा मोदी सरकार आने से पहले अच्छे दिनों का लालच विज्ञापनों में खूब दिया और जनता ने उस लालच में आकर अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मार दी। पिछले दिल्ली नगर निगम चुनावों में नया चेहरा कहकर उतारे गये उम्मीदवार के नाम पर पूर्ण सत्ता हासिल की मगर नए चेहरों के पीछे शतरंज खेलने वाले तो पुराने शातिर दिमाग के चेहरे ही गोटियां चला रहे हैं ना जाने भारत की जनता इन मुखौटों वाले राजनीतिज्ञों को कब समझेगी।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।