देश के कई हिस्सों में तेज गर्मी, ऐसे करें अपने बालों की सुरक्षा

देश की राजधानी दिल्ली सहित देश के कई अन्य हिस्सों में गर्मी और उमस का असर बना हुआ है। ऐसे में आपके बाल गर्मी से प्रभावित हो सकते हैं। तेज गर्मी से अपने बालों को बचाकर रखें। ...

देश की राजधानी दिल्ली सहित देश के कई अन्य हिस्सों में गर्मी और उमस का असर बना हुआ है। ऐसे में आपके बाल गर्मी से प्रभावित हो सकते हैं।

गर्मियों के तीखेपन का जितना असर त्वचा पर पड़ता है उतना ही बालों पर भी पड़ता है। गर्मी, तीखी धूप, जरूरत से ज्यादा पसीना, धूल-मिट्टी और इस सबके साथ त्वचा और सिर में संक्रमण की समस्याएं काफी बढ़ जाती हैं जिनके चलते बालों की सेहत प्रभावित होती ही है।

तेज गर्मी से अपने बालों को बचाकर रखें। गर्मी से अपने बालों को बचाने के लिए निम्न सावधानियां बरतें तो बेहतर है –

1 गर्मियों में सबसे ज्यादा जरूरी होता है बालों की ज्यादा सफाई। उमस, गर्मी, धूल और पसीना ज्यादा होने की वजह से बालों और सिर को साफ रखने के लिए नियमित सफाई करनी चाहिए। अपनी बालों की स्थिति के हिसाब से हर दूसरे दिन बालों को शैंपू से धोने की सलाह दी जाती है। खासतौर से अगर आप बाहर ज्यादा समय गुजारते हैं, ज्यादा यात्रा करते हैं अथवा धूप मे रहते हैं तो आपके लिए साफ-सफाई पर ध्यान देना ज्यादा जरूरी हो जाता है। हालांकि शैंपू का बहुत ज्यादा इस्तेमाल भी ठीक नहीं होता। इससे सिर की प्राकृतिक नमी खो जाती है। ऐसे में शैंपू का चुनाव भी सावधानी पूर्वक करें। बेहतर है कि ऐसे शैंपू का चुनाव करें जो आपके सिर और बालों की सफाई के साथ-साथ इसे मॉइश्चराइज भी करे।

2 बालों को रंगाएं नहीं क्योंकि रंगे हुए बाल आसानी से तेज धूप का निशाना बन जाते हैं और रंग हल्का पड़ने के साथ ही आपके बाल बेजान और रूखे हो सकते हैं।

3 बालों का रंग और चमक बनाए रखने और इसे मुलायम बनाने के लिए ऐसे शैम्पू और कंडीशनर का इस्तेमाल करें जो आपको तेज धूप और रंग हल्का पड़ने से सुरक्षा प्रदान करें।

4 कंडीशनिंग के बाद बालों को ठंडे पानी से धोएं। यह क्यूटिकल को बंद कर देता है, जिससे रंगे हुए बालों का रंग हल्का नहीं पड़ता।

5 बालों को अच्छे मॉइश्चर युक्त शैम्पू से धोएं, जो बालों के रूखेपन को दूर करता है।

6 अगर आपके बाल ज्यादा रूखे, दोमुंहे और बेजान हैं, तो आप बालों की ट्रिमिंग करा सकते हैं, जिससे ये अच्छे दिखने लगेंगे।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
क्या मौजूदा किसान आंदोलन राजनीति से प्रेरित है ?