कोहली बोले भारतीय क्रिकेट टीम हार्दिक, राहुल का समर्थन नहीं करती

विराट ने दोनों खिलाड़ियों के बयान को "आपत्तिजनक" बताया और कहा कि टीम प्रबंधन अभी भी उनके उपर लिए जाने वाले निर्णय का इंतजार कर रही है।...

सिडनी, 11 जनवरी। एक टीवी शो (TV Shows) में हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) और लोकेश राहुल (Lokesh Rahul) द्वारा दिए गए बयान के कारण शुरू हुए विवाद पर भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के कप्तान विराट कोहली ने अपनी चुप्पी तोड़ते हुए शुक्रवार को कहा कि टीम इन दोनों खिलाड़ियों के विचारों का समर्थन नहीं करती है। विराट ने दोनों खिलाड़ियों के बयान को "आपत्तिजनक" बताया और कहा कि टीम प्रबंधन अभी भी उनके उपर लिए जाने वाले निर्णय का इंतजार कर रही है।

कोहली ने यहां सिडनी क्रिकेट ग्राउंड (एससीजी) में आस्ट्रेलिया के खिलाफ होने वाले वनडे मैच से पहले कहा,

"हम भारतीय क्रिकेट टीम और जिम्मेदार क्रिकेट खिलाड़ियों के रूप में इस प्रकार के विचारों का समर्थन नहीं करते। दोनों खिलाड़ियों को महसूस हो गया कि उन्होंने कितनी बड़ी गलत की।"

सर्वोच्च अदालत द्वारा भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) का कामकाज देखने के लिए नियुक्त की गई प्रशासकों की समिति (सीओए) के अध्यक्ष विनोद राय ने गुरुवार को दोनों खिलाड़ियों पर दो मैचों का प्रतिबंध लगाने की सिफारिश की लेकिन सीओए के अन्य सदस्य डायना इडुल्जी निर्णय लेने से पहले कानूनी राय ले रही हैं।

इसके कारण पहले वनडे मैच में भी इन दोनों खिलाड़ियों के खेलने पर संशय पैदा हो गया है।

यह पूछे जाने पर कि इन दोनों खिलाड़ियों पर प्रतिबंध लगने की स्थिति में टीम का संयोजन क्या होगा? कोहली ने कहा, "संयोजन और टीम के संतुलन के दृष्टिकोण से हां आपको उनकी जरूरत है।"

कोहली ने कहा,

"इन चीजों पर आपका नियंत्रण नहीं है इसलिए जैसे-जैसे यह चीजें सामने आएंगी आपको इससे जूझना होगा। हम इस घटना को ऐसे ही देख रहे हैं, निर्णय आने के बाद टीम के संयोजन पर ध्यान दिया जाएगा और फिर हम देखेंगे कि इस पूरी स्थिति के बारे में क्या किया जाना चाहिए।"

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।