हार्दिक का निशाना : सीडी बनाने के चक्कर में भाजपा मेनीफेस्टो बनाना भूली

बिना घोषणा-पत्र के चुनावी मैदान में बीजेपी    गुजरात चुनाव में बीजेपी ने जारी नहीं किया घोषणा-पत्र राहुल-हार्दिक ने साधा निशाना...

बिना घोषणा-पत्र के चुनावी मैदान में बीजेपी   

गुजरात चुनाव में बीजेपी ने जारी नहीं किया घोषणा-पत्र

राहुल-हार्दिक ने साधा निशाना

गुजरात में पहले चरण के लिए कल मतदान होना है लेकिन हैरान करने वाली बात ये है कि बीजेपी ने अभी तक अपना घोषणा पत्र जारी नहीं किया है। गुजरात चुनाव प्रचार के दौरान बीजेपी ने राज्य में विकास को खूब भूनाया, लेकिन अब तक पार्टी के मेनिफेस्टो जारी ना करने पर कांग्रेस के साथ ही पाटिदार नेता हार्दिक पटेल ने चुटकी ली कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बीजेपी की कड़ी आलोचना की है।

राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि भाजपा ने गुजरात के लोगों के प्रति अविश्वसनीय अनादर दर्शाया है। प्रचार अभियान खत्म हो गया लेकिन लोगों के लिए अब तक घोषणापत्र का उल्लेख नहीं है। गुजरात के भविष्य के प्रति कोई दृष्टि या विचार सामने नहीं रखे गये।) इस मुद्दे को पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने भी बीजेपी को घेरते हुए कहा कि सीडी बनाने के चक्कर में भाजपा घोषणापत्र बनाना भूल गई है, कल वोटिंग है।

एक दूसरे ट्वीट में हार्दिक ने लिखा कि गुजरात में विकास के साथ चुनावी घोषणापत्र भी लापता है। साहब कोई कुछ भी नहीं कहेगा, आप एक बार चुनावी घोषणा पत्र में अपनी शैली में फेंक दीजिए।

अब जब बात बीजेपी को घेरने की हो तो तेजस्वी यादव भला कैसे पीछे हटते....उन्होंने भी अपना वार बीजेपी पर करते हुए कहा कि 22 साल से सत्ताधारी भाजपा का गुजरात में कोई घोषणा पत्र और विज़न डॉक्युमेंट है ही नहीं सिवाय बाबर, ख़िलजी और औरंगज़ेब को क़ब्र से निकालने के। मुग़ल शासकों का ध्यान करने से विकास आएगा क्या?

आपको बता दें कि कांग्रेस लगभग एक हफ्ते पहले ही अपना घोषणा पत्र जारी कर चुकी है। पार्टी ने अपने चुनावी घोषणापत्र में 'खुश रहे गुजरात, खुशहाल गुजरात' का नारा भी दिया है। साथ ही पाटीदारों को आरक्षण समेत कई लोक लुभावने वादे किए हैं।

गौरतलब है कि गुजरात में कल पहले चरण को लिए वोटिंग होनी है जबकि दूसरे चरण का चुनाव 14 दिसंबर होना हैं। 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।