सर्वोच्च न्यायालय ने देश भर में निर्माण कार्यो पर लगाई गई रोक, खुली भाजपा सरकार के स्वच्छता अभियान की पोल

सर्वोच्च न्यायालय ने देश भर में निर्माण कार्यो पर लगाई गई रोक, खुली भाजपा सरकार के स्वच्छता अभियान की पोल...

सर्वोच्च न्यायालय ने देश भर में निर्माण कार्यो पर लगाई गई रोक, खुली भाजपा सरकार के स्वच्छता अभियान की पोल

रायपुर/03 सितंबर 2018। कचरा प्रबंधन नीति बनाने में लापरवाही के कारण सर्वोच्च न्यायालय द्वारा नाराजगी व्यक्त करते हुये देश भर में निर्माण कार्यो पर रोक लगाने का निर्णय लिया गया है।

कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का स्वागत करते हुये कहा है, कि निर्माण कार्यों में लगी रोक से भाजपा सरकारों के स्वच्छता अभियान की पोल खुल गई है।

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता मो. असलम ने इसे भाजपा सरकारों की विफलता निरूपित किया है और कहा है कि यथा शीघ्र कम से कम अब तो कचरा प्रबंधन की सही नीति बनायी जाये ताकि निर्माण कार्यो में लगी रोक हट सके। इससे हजारो हाउसिंग प्रोजेक्ट और रियल स्टेट तो प्रभावित होंगे ही साथ में निर्माण कार्यों में लगने वाले सारे कारोबार ध्वस्त हो जायेंगे और मजदूरों से लेकर सप्लायर तथा निर्माण सामग्री विक्रय करने वाले के समक्ष रोजी-रोटी की समस्या उत्पन्न हो जायेगी।

श्री असलम ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के निर्णय से छत्तीसगढ़ राज्य भी प्रभावित है। दो वर्षों में राज्य सरकार द्वारा अब तक कचरा प्रबंधन नियम 2016 पर अमल नहीं किया जाना दुर्भाग्यजनक है। राजधानी रायपुर में लगभग 500 टन कचरा रोजाना निकलने के बाद भी कचरा प्रोसेसिंग प्लांट नहीं लगाया गया है, यह भी आर्श्चयजनक है। यही वजह है कि राज्य में गंदगी के कारण डेंगू ने व्यापक दस्तक दी हुयी है और शहरी इलाकों में इस रोग ने महामारी का रूप ले लिया है जिससे लगभग 37 मौतें हो चुकी हैं। सुप्रीम कोर्ट ने गंदगी और कचरे के प्रबंधन का जो मुद्दा उठाते हुये निर्णय लिया है और सरकारों व केन्द्र शासित प्रदेशों को जुर्माना भी लगाया है वह नागरिकों के हित में है, जिसकी सरकारो को चिंता नहीं है।

केवल भ्रष्टाचार कमीशनखोरी हो रही है।

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता मो. असलम ने कहा है कि स्वच्छता और कचरा प्रबंधन के नीति पर अमल न होने से राजधानी रायपुर सहित राज्य के सभी नगर प्रभावित है। केवल भ्रष्टाचार कमीशनखोरी हो रही है। स्वच्छता अभियान को लेकर सरकार का रवैय्या उदासीन एवं ढीला-ढाला है। सभी ओर निर्माण कार्यों में गड़बड़ी और अनियमिततायें जारी हैं। गंदगी फैलती जा रही है, सफाई की ओर किसी का ध्यान नहीं है।  सुप्रीम कोर्ट द्वारा कचरा प्रबंधन नीति को लागू कराने को लेकर जनहित में लिये गये निर्णय का पूरे देश में और छत्तीसगढ़ में व्यापक स्वागत हो रहा है।

ज़रा हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।