दक्षिणी दिल्ली : ग्राहकों के अलावा अन्य लोग भी कर सकेंगे होटल, रेस्तरा में मौजूद शौचालयों का इस्तेमाल 

राजधानी में सार्वजनिक शौचालयों की कमी को दूर करने के लिए दक्षिणी दिल्ली नगर निगम ने एक अनूठी पहल की है। आम जनता उन होटलों, रेस्तराओं और अन्य व्यवसायिक भवनों में मौजूद शौचालयों का इस्तेमाल कर सकेगी...

हाइलाइट्स
  • दक्षिणी दिल्ली नगर निगम इलाके में 1 अप्रैल से लागू होगा फैसला
  • इस फैसले से जनता को उपलब्ध कराए जा सकेंगे लगभग 3500 शौचालय 

 

नई दिल्ली, 14 मार्च । 

राजधानी में सार्वजनिक शौचालयों की कमी को दूर करने के लिए दक्षिणी दिल्ली नगर निगम ने एक अनूठी पहल की है। इसके तहत आम जनता उन होटलों, रेस्तराओं और अन्य व्यवसायिक भवनों में मौजूद शौचालयों का इस्तेमाल कर सकेगी, जिन्हें निगम ने हैल्थ ट्रेड लाइसेंस जारी किया है।

इस कदम से जहां करदाताओं की राशि बचाई जा सकेगी वहीं, जनता के इस्तेमाल के लिए लगभग 3500 शौचालय उपलब्ध कराए जा सकेंगे। इसके लिए अधिकतम पांच रुपये शुल्क निर्धारित किया गया है।  

गौरतलब है कि लगभग सभी होटलों और रेस्तराओं के स्वामियों ने अपने ग्राहकों की सुविधा के लिए शौचालय बनवा रखे हैं। अब इन शौचालयों का इस्तेमाल ग्राहकों के अलावा अन्य लोग भी कर सकेंगे।

उधर, सूचना एवं प्रचार निदेशक मुकेश यादव ने बताया कि यह फैसला 1 अप्रैल 2017 से लागू हो जाएगा। फ़िलहाल इसके अनुपालन के तौर तरीकों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। इससे स्वच्छ भारत मिशन को बढ़ावा मिलेगा।

उन्होंने बताया कि हाल ही में उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दक्षिणी दिल्ली नगर निगम को सलाह दी थी कि दिल्ली के रेस्तराओं और होटलों में मौजूद शौचालयों तक आम जनता की पहुंच बनाने की संभावना का पता लगाया जाना चाहिए। इसके बाद उक्त फैसला लिया गया है।

उन्होंने बताया कि इन रेस्तरा और होटलों के प्रबंधकों को विकल्प दिया गया है कि वे शौचालय के रख रखाव और सफाई के खर्च के लिए एक बार शौचालय के इस्तेमाल पर 5 रुपये तक का शुल्क ले सकेंगे। 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
क्या मौजूदा किसान आंदोलन राजनीति से प्रेरित है ?