आईसीसी ने बीसीसीआई को धमकाया, 161 करोड़ रुपये दो या फिर विश्व कप मेजबानी गंवाओ

ICC told BCCI, give compensation or lost the hosting of the World Cup...

एजेंसी
आईसीसी ने बीसीसीआई को धमकाया, 161 करोड़ रुपये दो या फिर विश्व कप मेजबानी गंवाओ

ICC told BCCI, give compensation or lost the hosting of the World Cup

नई दिल्ली, 22 दिसम्बर (आईएएनएस)| अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने शनिवार को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को बड़ा झटका देते हुए कहा कि या तो वह टी-20 विश्व कप-2016 की मेजबानी के दौरान टैक्स में छूट न मिलने पर मुआवजे के तौर पर बोर्ड को 161 करोड़ रुपये दे या विश्व कप-2023 की मेजबानी का अधिकार गंवाने को तैयार रहे। आईसीसी की इसी साल अक्टूबर में हुई बैठक में यह फैसला लिया गया था कि बीसीसीआई आईसीसी को टैक्स में छूट न मिलने पर मुआवजा देगी क्योंकि टी-20 विश्व कप-2016 की मेजबानी के दौरान भारतीय सरकार या राज्य सरकारों ने आईसीसी को टैक्स में छूट नहीं दी थी।

 

आईसीसी ने कहा कि अगर बीसीसीआई ऐसा नहीं कर पाती है तो वह जारी वित्तीय वर्ष के रेवेन्यू से अपनी राशि काट लेगी।

 

रिपोर्ट के मुताबिक, बीसीसीआई ने आईसीसी से उस बैठक के मिनट्स मांगे हैं जिसमें भारतीय बोर्ड ने टैक्स में छूट मिलने की बात कही थी।

बीसीसीआई का कहना है कि आईसीसी ने अभी तक इस तरह की कोई चीज उनसे साझा नहीं की है।

 

रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीसीसीआई के तत्कालीन अध्यक्ष एन. श्रीनिवासन ने आईसीसी से वादा नहीं किया था कि सरकार उन्हें टैक्स में छूट देगी।

 

भारत को 2021 में चैम्पियंस ट्रॉफी और 2023 में विश्व कप की मेजबानी करनी हैं।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

ICC International Cricket Council, ICC, BCCI, compensation, hosting of the World Cup, World Cup 2023, Tax exemptions, Indian Cricket Board, International Cricket Council, टी-20 विश्व कप-2016, आईसीसी, बीसीसीआई, टैक्स में छूट, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद, 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।