मधुमेह है तो ऐसे रखें दांतों का ख्याल

मधुमेह है तो हो सकते हैं मसूड़ों के रोग, और दाँतों की अन्य चिकित्सकीय समस्याएं...

मधुमेह है तो ऐसे रखें दांतों का ख्याल

If you have diabetes then take care of your teeth

मधुमेह है तो हो सकते हैं मसूड़ों के रोग, और दाँतों की अन्य चिकित्सकीय समस्याएं

मधुमेह आपके मुंह को कैसे प्रभावित कर सकता है?

मधुमेह से आपके रक्त में बहुत ज्यादा ग्लूकोज, जिसे चीनी भी कहा जाता है, आपके दर्द में दर्द, संक्रमण और अन्य समस्याएं पैदा कर सकता है। आपके मुंह में शामिल हैं - आपके दांत, आपके मसूड़ा और

आपका जबड़ा व आपकी जीभ, मुँह की छत और निचला हिस्सा, और आपके गालों के अंदर के ऊतक।

कैसे बनता है प्लेक

ग्लूकोज आपकी लार (आपके मुंह में द्रव जो इसे गीला बनाता है) में मौजूद होता है। जब मधुमेह नियंत्रित नहीं होता है, तो आपके लार में उच्च ग्लूकोज का स्तर हानिकारक बैक्टीरिया बढ़ाने में मदद करता है। ये जीवाणु भोजन के साथ मिलकर एक मुलायम, चिपचिपी फिल्म, जिसे प्लेक (plaque) बनाते हैं। प्लेक खाद्य पदार्थों से भी आता है जिसमें शर्करा या स्टार्च होते हैं। कुछ प्रकार के प्लेक दांत क्षय या गुहाओं का कारण बनते हैं। अन्य प्रकार के प्लेक कारण गोंद रोग और बुरी सांस का कारण बनता है।

प्लेक है तो क्या नुकसान होगा?

प्लेक को अगर समय-समय पर हटाया नहीं जाए तो यह मसूड़ों के ऊपर जमा होकर टैटार tartar में बदल जाता है। टैटार आपके दाँतों के बीच ब्रश को पहुंचना कठिन बनाता जाता है और दांतों के बीच के स्थान को साफ करना और कठिन होता जाता है। आपके मसूड़े लाल होते जाते हैं और उनमें सूजन आ जाती है, और उनमें से खून बहने लगता है। अस्वस्थ मसूड़ों की यह स्थिति गिंगिवाइटिस gingivitis( मसूड़े की सूजन या मसूड़े का प्रदाह या मसूड़ाशोथ या मसूड़ों का प्रदाह) कही जाती है।

इसके अलावा मधुमेह से आपके दाँतों और मुँह में निम्न समस्याओं के अधिक लक्षण हो सकते हैं।

एक दर्द या अल्सर, जो ठीक नहीं होता..

दाँतों में काले धब्बे या छेद..

मुँह, चेहरे या जबड़ों में दर्द, जो ठीक नहीं होता...

दांतों का ढीला होना..

चबाने पर दांतों में दर्द..

मुँह का बदला हुआ स्वाद या मुँह का बुरा स्वाद..

सांस में बदबू, जो दांत साफ करने के बावजूद नहीं जाती..

आपको पता कैसे चलेगा कि आपको मधुमेह से मुंह की समस्या है ?

मधुमेह से दांतों में होने वाली समस्याओं के लिए अपना मुंह देंखें। यदि आपको कोई समस्या दिखाई देती है तो तुरंत दंत चिकित्सक को दिखाएं।

मसूड़ों के रोग के पहले संकेत हैं - सूजन, टेंडरनेस और मसूड़ों से रक्त का बहना। कभी-कभी आपको मसूड़ों के रोग का तब तक पता नहीं चलता जब तक कोई गंभीर नुकसान न हो जाए। मधुमेह होने के बाद दांतों की सुरक्षा अनिवार्य है और उसके लिए बेहतर है कि साल में कम से कम दो बार दंत चिकित्सक को अवश्य दिखाएं।

अगर आप मधुमेह की कोई दवा लेते हैं या इंसुलिन लेते हैं तो दंत चिकित्सक को दिखाने से पहले दवा नियमित लें।

अपनी A1C टेस्ट की रिपोर्ट, फास्टिंग ब्लड शुगर टेस्ट की रिपोर्ट दंत चिकित्सक को अवश्य दिखाएं।

(नोट – यह समाचार चिकित्सकीय परामर्श नहीं हैयह आम जनता में जागरूकता के उद्देश्य से किए गए अध्ययन का सार है। आप इसके आधार पर कोई निर्णय नहीं ले सकतेचिकित्सक से परामर्श करें। )

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

Topics - Tooth, gingivitis, gingivitis, gingivitis, gingivitis, gonorrhea, dark teeth in insulin, insulin, fasting blood sugar test, dentist, diabetes mellitus problems,

स्रोत - U.S. Department of Health & Human Services का नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।