आज़ादी मिलने से ठीक पहले 14 अगस्त 1947 को क्या कहा था पं. नेहरू ने ?

बारह बजे रात को जब पूरा विश्व सो रहा होगा तब भारत जीवन और स्वतंत्रता के स्वागत में अपनी आँखें खोलेगा । एक क्षण ऐसा आता हैऔर वह क्षण इतिहास में विरल ही होता है ...

अतिथि लेखक
आज़ादी मिलने से ठीक पहले 14 अगस्त 1947 को क्या कहा था पं. नेहरू ने ?

मधुवन दत्त चतुर्वेदी

पंडित जवाहर लाल नेहरू ने कहा था-

"आज़ादी हासिल करने से ज्यादा मुश्किल है उसकी हिफाजत करना।"

आज जबकि सत्ता के शीर्ष पर उस गोत्र के लोग हैं जिनपर स्वतंत्रता आंदोलन के मूल्यों की विरासत नहीं है, हमें सतत सतर्क और सचेष्ठ रहने की आवश्यकता है।

संविधान सभा में 14-15 अगस्त की मध्यरात्रि पं. नेहरू ने जो बोला उसे 20वीं सदी के सबसे प्रभावशाली भाषणों की सूची में रखा गया है।

14 अगस्त 1947 को संविधान सभा में अपने भाषण में पं. नेहरू ने कहा था -

"सालों पहले हमने नियति से साक्षात्कार का वायदा किया था , और अब उस वचन को पूरा करने का वक्त आ गया है ।...बारह बजे रात को जब पूरा विश्व सो रहा होगा तब भारत जीवन और स्वतंत्रता के स्वागत में अपनी आँखें खोलेगा । एक क्षण ऐसा आता हैऔर वह क्षण इतिहास में विरल ही होता है जब हम पुरातन से निकलकर नए परिवेश में कदम रखते हैं तब एक युग समाप्त होता है और बहुत समय से दबे कुचले किसी राष्ट्र की आत्मा मुखर हो उठती है ।"

(संविधान सभा में पं. नेहरू के भाषण से 14.08.1947)

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।