गुजरात चुनाव : त्रिमूर्ति उड़ा देगी भाजपा को !

गुजरात चुनाव में दिग्गजों की अग्नि परीक्षा...

गुजरात चुनाव में दिग्गजों की अग्नि परीक्षा

जिग्नेश, अल्पेश और हार्दिक की परीक्षा

गुजरात में दो दशकों के बाद पहली बार ऐसे सियासी समीकरण बैठे हैं...जब चुनाव में बड़े-बड़े दिग्गजों की साख दांव पर लगी है...जहां कांग्रेस और भाजपा के लिए ये चुनाव नाक का सवाल है...तो वहीं चुनाव में मुख्य़ किरदार बनकर उभरे जिग्नेश, अल्पेश और हार्दिक के लिए भी ये किसी अग्निपरीक्षा से कम नहीं...

गुजरात चुनाव में भले ही जिग्नेश, अल्पेश और हार्दिक अलग-अलग राह पकड़कर चल रहे हों...लेकिन तीनों का लक्ष्य एक ही है...तीन की इस तिगड़ी ने इस बार भाजपा को हराने का लक्ष्य रखा है...दूसरे चरण का मुकाबला तीनों के लिए काफी अहम है...क्य़ोंकि ये तीनों इस बार भाजपा के प्रत्याशियों के सामने खड़े हैं...ऐसे में दूसरे चरण के चुनाव को अग्निपरीक्षा के तौर पर देखा जा रहा है...

वडगाम विधानसभा क्षेत्र से दलित नेता जिग्नेश मेवाणी निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं...कांग्रेस ने इस सीट से अपना उम्मीदवार नहीं उतारा है और मेवाणी का समर्थन किया है...लेकिन जिग्नेश के लिए जीत का रास्ता इतना आसान नहीं हैं...क्योंकि मेवाणी के सामने भाजपा ने भी अपने दिग्गज खिलाड़ी विजयभाई चक्रवर्ती को उतारा है...ऐसे में मुकाबला तो कड़ा है...

वहीं ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर और पाटीदार नेता हार्दिक पटेल पर भी सबकी नजरें टिकी हैं...अल्पेश ठाकोर ने तो कांग्रेस का हाथ थाम कर भाजपा के खिलाफ हुंकार भरी है...वहीं हार्दिक ने हाथ ना थामा हो, लेकिन वो कांग्रेस को समर्थन का ऐलान कर चुके हैं...ऐसे में ये तीनों नेता चुनाव में जातीय समीकरण को प्रभावित कर सकते हैं...लेकिन अगर जातीय समीकरण को प्रभावित करने के बावजूद भाजपा जीतने में कामयाब हो गई, तो कांग्रेस के लिए मुश्किल हो जाएगी...

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।