कर्नाटक : न्यायपालिका ने लोकतंत्र को बाजार बनाने का रास्ता साफ कर दिया

संविधान विवेकहीनता के आगे परास्त हुआ, न्यायपालिका ने लोकतंत्र को बाजार बनाने का रास्ता साफ कर दिया...

कर्नाटक : न्यायपालिका ने लोकतंत्र को बाजार बनाने का रास्ता साफ कर दिया

नई दिल्ली। कर्नाटक में भारतीय जनता पार्टी को सरकार बनाने के राज्यपाल के आमंत्रण पर सर्वोच्च न्यायालय के अमतरिम फैसले की सोशल मीडिया पर तीखी आलोचना हो रही है।

वरिष्ठ पत्रकार कमल शुक्ला ने फेसबुक पर लिखा -

संविधान विवेकहीनता के आगे परास्त हुआ, न्यायपालिका ने लोकतंत्र को बाजार बनाने का रास्ता साफ कर दिया

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
hastakshep
>