केरल :  बाढ़ में अब तक 417 मरे, मुख्यमंत्री ने लोगों से मांगा नुकसान का विवरण

केरल में यह सदी की सबसे भयावह बाढ़ है। मुख्यमंत्री ने बाढ़ से प्रभावित लोगों से केरल सरकार की वेबसाइट पर अपने नुकसान की जानकारी देने का आग्रह किया है।...

केरल :  बाढ़ में अब तक 417 मरे, मुख्यमंत्री ने लोगों से मांगा नुकसान का विवरण

तिरुवनंतपुरम, 24 अगस्त। मुख्यमंत्री पिनारई विजयन ने जानकारी दी है कि केरल में बारिश व बाढ़ की विभीषिका में अब तक 417 लोग जान गंवा चुके हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सैकड़ों लोग राहत शिविरों से घरों को लौट रहे हैं, फिर भी अभी 8.69 लाख लोग 2,787 राहत शिविरों में हैं।

विजयन ने मीडिया से कहा कि 29 मई से मानसून की बारिश शुरू होने से मौतें होनी शुरू हो गईं थीं, लेकिन आठ अगस्त से 265 लोगों के मौत होने की सूचना है, जब मूसलाधार बारिश की वजह से राज्य में भयावह बाढ़ आ गई। केरल में यह सदी की सबसे भयावह बाढ़ है।

विजयन ने कहा कि 36 लोग लापता हैं।

मुख्यमंत्री ने बाढ़ से प्रभावित लोगों से केरल सरकार की वेबसाइट पर अपने नुकसान की जानकारी देने का आग्रह किया है।

बाढ़ की वजह से 7,000 घर पूरी तरह से नष्ट हुए हैं और करीब 50,000 घरों को आंशिक रूप से नुकसान हुआ है।

विजयन की यह टिप्पणी अधिक संख्या में लोगों के राहत शिविरों से वापस जाने व अपना जीवन फिर शुरू करने पर आई है। राज्य में एक समय में कुल 3,000 से ज्यादा राहत शिविर थे।

शनिवार को ओणम त्योहार है लेकिन किसी जश्न के आसार कम ही हैं। सरकार ने आधिकारिक उत्सव को रद्द कर दिया है और 39 करोड़ रुपये की राशि राहत कार्य के लिए दे दी है।

मुख्यमंत्री विजयन ने कहा कि केरल में बाढ़ राहत के कार्य के लिए समाज कल्याण विभाग को 5000 व्हील चेयर की सख्त आवश्यकता है। उन्होंने संभावित एजेंसियों / योगदानकर्ताओं से अनुरोध किया कि वे समाज कल्याण विभाग से संपर्क करें।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।