मीडिया के सेल्फीकाल में खट्टर सरकार का पत्रकारों को हुक्म, खबरदार जो सीएम के पास फटके

नोटिफिकेशन के अंत में चेतावनी देते हुए लिखा कि भविष्य में आप (पत्रकारों) द्वारा इस संबंध में बरती गई लापरवाही के लिए आप स्वयं जिम्मेदार होंगे।...

नई दिल्ली। ये मीडिया का सेल्फीकाल है, जिसमें गोदी मीडिया सरकारजी के साथ सेल्फी खींचने में एक-दूसरे पर गिरे पड़ते हैं, जबकि कई पत्रकार कठिन सवाल पूछकर सरकारजी के लिए मुसीबत खड़ी कर देते हैं। हरियाणा की खट्टर सरकार ने सेल्फी पत्रकारों और सवाली पत्रकारों दोनों से छुटकारा पाने का उपाय निकाल लिया है और बाकायदा हुक्म जारी किया है कि सभी पत्रकार भविष्य में हिदायतों की अनुपालना करें तथा मुख्यमंत्री के कार्यक्रम,प्रेस कांफ्रेंस व बाइट लेने के दौरान सुरक्षा की दृष्टि से उचित दूरी बनाए रखें।

दरअसल हरियाणा की खट्टर सरकार ने मीडिया के लिए नया फरमान निकाला है। HaryanaNewsline के मुताबिक सोनीपत जिले के जिला सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी की तरफ आए इस नोटिफिकेशन में मीडियाकर्मियों से मुख्यमंत्री खट्टर से बाइट लेते समय या प्रैस कांन्फ्रेंस के दौरान उचित दूरी बनाए रखनी की हिदायत दी गई है।

नोटिफिकेशन में लिखा है कि,

” प्राय देखने में आया है कि माननीय मुख्यमंत्री की प्रेस कांफ्रेंस या बाइट लेने का दौरान पत्रकार और कैमरामैन अपना माइक,कैमरा इत्यादि मुख्यमंत्री महोदय के बिल्कुल नजदीक ले जाते हैं। साथ ही बाइट लेने के बावजूद कुछ पत्रकार साथी बार बार मुख्यमंत्री के पास जाते हैं।“

इस नोटिफिकेशन के अंत में चेतावनी देते हुए लिखा कि “भविष्य में आप द्वारा इस संबंध में बरती गई लापरवाही के लिए आप स्वयं जिम्मेदार होंगे।“

वैसे ये पहली बार नहीं है जब इस तरह का विवाद सामने आया हो।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।