किसान सभा ने लगाया कांग्रेस पर नरम हिंदुत्व अपनाने का आरोप

किसान सभा ने कांग्रेस पर नरम हिंदुत्व का आरोप लगाते हुए कहा है कि कांग्रेस ने भूमि अधिग्रहण अध्यादेश के समय जो रुख अपनाया था, वह रुख उसने किसान विरोधी उस कानून के खिलाफ नहीं अपनाया...

नई दिल्ली। अखिल भारतीय किसान सभा ने कांग्रेस पर नरम हिंदुत्व का आरोप लगाते हुए कहा है, कि देश की मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने भूमि अधिग्रहण अध्यादेश के समय जो रुख अपनाया था, वह रुख उसने किसान विरोधी उस कानून के खिलाफ नहीं अपनाया है, जिसमें किसानों के पशुपालन के अधिकार को खत्म करने की कोशिश की जा रही है।

किसान सभा नेता हन्नान मौल्ला का कहना है, कि कट्टर हिंदुत्व की लड़ाई नरम हिंदुत्व से नहीं लड़ी जा सकती।

किसान सभा ने देश के तमाम राजनैतिक दलों को पत्र लिखकर किसानों के मुद्दे पर अपना रुख साफ करने की मांग की है, इसमें पांच मांग शामिल हैं, पहला- स्वामीनाथन की सिफारिशों को लागू करना, दूसरा- किसानों का कर्ज माफी, तीसरा- जानवरों की खरीद फरोख्त को लेकर आए कानून की वापसी, चार- मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का इस्तीफा और पांचवां- मनरेगा के लिए जारी बजट को फिर से बढ़ाना।

किसान सभा नेता ने कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के सत्याग्रह पर टिप्पणी करते हुए कहा, कि स्वामीनाथन कमीशन की रिपोर्ट आने के बाद यूपीए-2 में उसे लागू क्यों नहीं किया गया।   

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
क्या मौजूदा किसान आंदोलन राजनीति से प्रेरित है ?