मणिपुर विश्वविद्यालय : 90 छात्र व छह प्रोफेसर गिरफ्तार, पांच दिन के लिए इंटरनेट पर पाबंदी

Manipur University: Over 90 students, teachers detained after police conduct midnight raids at hostels...

मणिपुर विश्वविद्यालय : 90 छात्र व छह प्रोफेसर गिरफ्तार, पांच दिन के लिए इंटरनेट पर पाबंदी

Manipur University: Over 90 students, teachers detained after police conduct midnight raids at hostels

नई दिल्ली, 21 सितम्बर। मणिपुर विश्वविद्यालय के कुलपति कार्यालय से शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने शुक्रवार तड़के (आधी रात के कुछ बाद) छात्रों के छात्रावास में घुसकर विश्वविद्यालय के छह प्रोफेसरों और 90 छात्रों को गिरफ्तार कर लिया।

मीडिया रिपोर्ट्स में पुलिस महानिरीक्षक एस कैलुन और क्ले खोंगसाई के हवाले से कहा गया है, पुलिस ने प्रभारी कुलपति के. युगिन्द्रो की शिकायत के आधार पर मध्यरात्रि के ठीक बाद परिसर में प्रवेश किया। के. युगिन्द्रो ने शिकायत में कहा था कि गुरुवार को उन्हें चार्ज करने से रोका गया था।

पुलिस की कार्रवाई के खिलाफ छात्रों ने जोरदार प्रदर्शन किया। झड़प के बाद पुलिस को भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागने पड़े।

एक प्रोफेसर अमर युनान ने कहा कि कुछ छात्रों को चोटें आईं और उनका खून बह रहा था।

मणिपुर विश्वविद्यालय में बीते तीन महीनों से अशांति बनी हुई है। यहां छात्रों व शिक्षकों ने कुलपति ए.पी. पांडे को हटाने की मांग की थी।

विश्वविद्यालय को 85 दिनों तक बंद रखा गया था। यहां सितम्बर में स्थिति सामान्य तब हुई, जब एक फैक्ट फांडिंग कमेटी का पांडे के विरुद्ध आरोपों को जांचने के लिए गठित किया गया। पांडे पर वित्तीय व प्रशासनिक अनियमितता में संलिप्त होने के आरोप हैं।

इन आरोपों से इनकार करने वाले पांडे को 17 सितम्बर को निलंबित कर दिया गया।

प्रभारी कुलपति युगींद्रो ने शुक्रवार को अपना प्रभार संभाला। कुछ शिक्षकों और छात्रों ने गुरुवार को उन्हें जबरदस्ती इस्तीफा देने पर मजबूर कर दिया था।

मणिपुर में अगले पांच दिनों के लिए इंटरनेट सेवा पर पाबंदी लगा दी गई है।

ज़रा हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।