नये साल की शुभकामनाएं : मायावती ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहीं ये बड़ी बातें

कुदरत से यही प्रार्थना है कि वह भाजपा तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार को इतनी सद्बुद्धि जरूर दे कि वे नये वर्ष 2018 में अपनी घोर जनविरोधी सोच तथा नीतियों को लागू करने से बचें...

हाइलाइट्स

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली अहंकारी और निरंकुश सरकार ने अपने राजनीतिक स्वार्थ के कारण नोटबंदी कर पहले तो देश को आर्थिक आपातकाल जैसी स्थिति में डालकर परेशान किया और अब यह आशंका सभी देशवासियों को परेशान कर रही है कि बैंकों में रखा उनकी अपनी मेहनत की कमाई का धन भी उनका नहीं रह जायेगा.

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष व उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने आज नये साल की शुभकामनाएं देने के बहाने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) तथा केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा और कहा कि कुदरत इन दोनों को नववर्ष में जनविरोधी नीतियों को लागू ना करने के लिये सद्बुद्धि दे.

आज यहां जारी एक बयान में मायावती ने नोटबंदी और जीएसटी का जिक्र करते हुए एफआरडीआई का उल्लेख किया और कहा कि कुदरत से यही प्रार्थना है कि वह भाजपा तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार को इतनी सद्बुद्धि जरूर दे कि वे नये वर्ष 2018 में अपनी घोर जनविरोधी सोच तथा नीतियों को लागू करने से बचें.

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली अहंकारी और निरंकुश सरकार ने अपने राजनीतिक स्वार्थ के कारण नोटबंदी कर पहले तो देश को आर्थिक आपातकाल जैसी स्थिति में डालकर परेशान किया और अब यह आशंका सभी देशवासियों को परेशान कर रही है कि बैंकों में रखा उनकी अपनी मेहनत की कमाई का धन भी उनका नहीं रह जायेगा.

सुश्री मायावती ने कहा कि बैंकों में जमा धन के प्रति अपनी जिम्मेदारी और जवाबदेही से भागने के लिये मोदी सरकार बहुत जल्द नया कानून बनाने जा रही है. ऐसी स्थिति में नया वर्ष देश की सवा सौ करोड़ जनता के लिये कितना संकट भरा और तनावपूर्ण गुजरेगा इसका सहज अनुमान लगाया जा सकता है. मायावती ने कहा कि वर्ष 2016 की तरह 2017 भी देश-प्रदेश की 90 प्रतिशत से अधिक ईमानदार एवं मेहनतकश आम जनता के लिये गहरे आर्थिक संकट तथा मुसीबतों के पहाड़ जैसा गुजरा है. उसके मद्देनजर कुदरत से यह विशेष प्रार्थना है कि कल से शुरू होने वाला नया वर्ष सुकून, शांति तथा नयी उम्मीदों वाला साबित हो.

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।