अब मानसिक बीमारियों को भी कवर करेंगी बीमा कम्पनियां

बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (आईआरडीएआई) ने सभी बीमा कंपनियों को बीमा पॉलिसी में मानसिक बीमारी को भी कवर करने का प्रावधान करने का निर्देश दिया है।...

अब मानसिक बीमारियों को भी कवर करेंगी बीमा कम्पनियां

Mental illness now included in insurance policies

बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (आईआरडीएआई) ने सभी बीमा कंपनियों को बीमा पॉलिसी में मानसिक बीमारी को भी कवर करने का प्रावधान करने का निर्देश दिया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मेंटल हेल्थकेयर एक्ट, 2017, जो 29.5.2018 से लागू हुआ है, की धारा 21 (4) के अनुसार, प्रत्येक बीमाकर्ता (बीमा कंपनी) को मानसिक बीमारी के इलाज के लिए चिकित्सा बीमा के लिए उसी आधार पर प्रावधान करने के आदेश हैं जैसा कि शारीरिक बीमारी के इलाज के लिए उपलब्ध है।

आईआरडीएआई ने 16 अगस्त को जारी किए गए अपने आदेशों में कहा कि सभी बीमा कंपनियों को तत्काल प्रभाव से मेंटल हेल्थकेयर अधिनियम, 2017 के उपरोक्त प्रावधानों का अनुपालन करने का निर्देश दिया गया है।

बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (आईआरडीएआई) ने सभी बीमा कंपनियों को बीमा पॉलिसी में भी मानसिक बीमारी को कवर करने का प्रावधान करने का निर्देश दिया है।

मानसिक हेल्थकेयर अधिनियम-2017 के अनुसार, मानसिक बीमारी वाले प्रत्येक व्यक्ति को सभी स्वास्थ्य देखभाल के उसी तरह प्रावधान किए जाएंगे जो शारीरिक बीमारी वाले व्यक्तियों के लिए किए जाते हैं।

अधिनियम आगे कहता है कि प्रत्येक बीमाकर्ता (बीमा कंपनी) शारीरिक बीमारी के इलाज के लिए उपलब्ध आधार पर ही मानसिक बीमारी के इलाज के लिए चिकित्सा बीमा का प्रावधान करेगा।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।