दो अलग दिन- 29 अगस्त और 17 सितंबर को पैदा होने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री बने मोदी

क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो अलग दिन- 29 अगस्त और 17 सितंबर को पैदा होने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री बन गए हैं ?...

हाइलाइट्स

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अपना जन्मदिन बड़ीधूमधाम से मना रहे हैं तो दूसरी तरफ नर्मदा बचाओ आंदोलन उनके जन्म दिन को मध्य प्रदेश की जनता का मरण दिवस बता रहा है। इतना ही नहीं सवाल सोशल मीडिया पर पूछे जा रहे हैं कि क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो अलग दिन- 29 अगस्त और 17 सितंबर को पैदा होने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री बन गए हैं ?

फेसबुक पर मानवाधिकार कार्यकर्ता समर अनार्या ने लिखा -

“Modi is first ever Indian PM born on two different dates- 29th August and 17th September. Kudos Boosi Basiya on this unique achievement!

मोदी दो अलग दिन- 29 अगस्त और 17 सितंबर को पैदा होने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री बने। बूसी बसिया को इस अद्वितीय उपलब्धि की बधाई!”

दरअसल 3 मई 2016 को पत्रिका अहमदाबाद में मुकेश शर्मा की एक रिपोर्ट से यह विवाद सामने आया था। इस खबरका अभी तक कोई खंडन सामने नहीं आया है।

https://www.patrika.com/news/ahmedabad/now-modi-s-birthday-on-the-dispute-29-august-or-september-17-1286659/ लिंक पर पूरी खबर पढ़ी जा सकती है -

“अहमदाबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। हालांकि मोदी की शैक्षिक योग्यता पर गुजरात के एक अखबार ने फिलहाल विराम लगा दिया है, लेकिन अब उनके जन्म दिन को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। गुजरात यूनिवर्सिटी की पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री में उनकी जन्मतिथि 29 अगस्त 1949 है जबकि परिवार के मुताबिक वह 17 सितम्बर, 1950 को जन्मे थे। वेबसाइट और ऑफिशियल रिकॉर्ड में भी उनका जन्मदिन 17 सितम्बर ही है। मोदी ने एमएन कॉलेज, विसनगर से प्री-साइंस (12वीं) किया था। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शक्तिसिंह गोहिल ने कॉलेज के रजिस्टर की प्रति दिखाते हुए कहा है कि उनकी जन्म तिथि 29 अगस्त, 1949 है।

रजिस्टर में मोदी का नाम नरेंद्र कुमार दामोदरदास मोदी है। वैसे, अपने चुनावी हलफनामे में पीएम मोदी ने अपनी जन्मतिथि नहीं बताई है, बल्कि अपना उम्र लिखा है।

कांग्रेस ने कहा है कि मोदी को बताना चाहिए कि पासपोर्ट, पैनकार्ड और अन्य दस्तावेजों में उनकी जन्म तिथि क्या है। अलग-अलग जन्मतिथि के पीछे कारण क्या है। वैसे, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शक्ति सिंह ने एक बार फिर प्रधानमंत्री की शैक्षिक योग्यता पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा है कि मोदी को अपने स्नातक की डिग्री का खुलासा करना चाहिए। बताना चाहिए कि यह डिग्री उन्होंने कहां से और कब ली। उस समय अपने साथ पढऩे वाले कम से कम 10 छात्रों के नाम बताने चाहिए।

यूनिवर्सिटी ने नहीं दी जानकारी

कांग्रेस नेता शक्ति सिंह ने कहा कि पीएम मोदी के स्नातक डिग्री को लेकर आरटीआई के तहत गुजरात यूनिवर्सिटी से करीब 70 बार जानकारी मांगी गई, लेकिन गोपनीयता का हवाला देकर जानकारी नहीं दी गई। उन्होंने कहा कि एमए में दाखिले के लिए उन्होंने स्नातक का सर्टिफिकेट जरूर दिया होगा। यूनिवर्सिटी का इसका खुलासा करना चाहिए।“

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।