आरटीआई से हुआ खुलासा, संसद् को बिना बताए मोदी सरकार ने खत्म कर दिए 1420 केंद्रीय कानून

मोदी ने संसद् की सीढ़ियों पर मत्था टेककर की थी पीएम के रूप में काम की शुरूआत।...

आरटीआई से हुआ खुलासा, संसद् को बिना बताए मोदी सरकार ने खत्म कर दिए 1420 केंद्रीय कानून

संसद् की सीढ़ियों पर मत्था टेककर की थी पीएम के रूप में काम की शुरूआत।

नई दिल्ली, 19 सितंबर। एक आरटीआई से खुलासा हुआ है कि मोदी सरकार ने बिना संसद् को बताए 1420 केंद्रीय कानून समाप्त कर दिए। वर्ष 2016 में एक बार में ही सर्वाधिक 756 कानून समाप्त किए गए। मजे की बात यह है कि मोदी ने संसद् की सीढ़ियों की मत्था टेककर पीएम के रूप में काम की शुरूआत की थी ।

विधायी विभाग, भारत सरकार के जन सूचना अधिकारी द्वारा लखनऊ स्थित एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर को दी गई सूचना के अनुसार वर्ष 2014 से आज तक 1420 पुराने तथा अनुपयोगी केंद्रीय कानून समाप्त किये जा चुके हैं।

सूचना के अनुसार इनमे सबसे पहले 35 कानून निरसन तथा संशोधन अधिनियम 2015 द्वारा समाप्त किये गए. इसके बाद वर्ष 2015 में ही 90 कानून, वर्ष 2016 में एक बार में 756 एवं दूसरी बार में 294 सहित 1050 कानून तथा वर्ष 2017 में पहली बार में 105 एवं दूसरी बार में 140 सहित 245 कानून  समाप्त किये गए।

आरटीआई सूचना के अनुसार यह कार्य विधि आयोग एवं प्रधान मंत्री कार्यालय द्वारा बनाये गए दो-सदस्यीय समिति की संस्तुति तथा मंत्रालयों एवं विभागों से प्राप्त टिप्पणी के आधार पर किया गया। 

ज़रा हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।