बाज नहीं आए पीएम मोदी, लाल किले से अपने आखिरी भाषण में भी बोले 6 झूठ !

लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वतंत्रता दिवस के आखिरी भाषण पर कांग्रेस ने जोरदार हमला बोलते हुए कहा है कि उन्होंने लाल किले की प्राचीर से झूठ बोलना चुना।...

बाज नहीं आए पीएम मोदी, लाल किले से अपने आखिरी भाषण में भी बोले 6 झूठ !

नई दिल्ली, 16 अगस्त। लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वतंत्रता दिवस के आखिरी भाषण पर कांग्रेस ने जोरदार हमला बोलते हुए कहा है कि उन्होंने लाल किले की प्राचीर से झूठ बोलना चुना।

कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर हैंडिल पर सिलसिलेवार ट्वीटकर पीएम के भाषण के 6 झूठ गिनाए हैं।

ट्वीट के मुताबिक “प्रधान मंत्री मोदी का  झूठ का एक और पैक का एक और दिन। आज उन्होंने लाल किले की प्राचीर से झूठ बोलना चुना।“

ट्वीट के मुताबिक पीएम के भाषण के 6 झूठ निम्न है -

1 प्रधान मंत्री मोदी ने 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने का वादा किया था। इसे हासिल करने के लिए, कृषि विकास दर 12% होना चाहिए जबकि वर्तमान में यह 2.1%  है।

2 प्रधान मंत्री ने कहा कि वह कृषि निर्यात को नीति के रूप में चला रहे हैं - यह सच से बहुत दूर है, क्योंकि 2013 से कृषि उत्पादों का वार्षिक निर्यात 2.5 लाख करोड़ रुपये से घटकर 64,000 करोड़ रुपये हो गया है।

3 उज्ज्वल योजना की सफलता प्रधान मंत्री मोदी द्वारा किए गए दावे से पूरी तरह से दूर है। प्रदान किए गए कनेक्शन का 75% वर्तमान में निष्क्रिय हैं और खपत दर में केवल 0.8% की वृद्धि हुई है।

4 प्रधान मंत्री मोदी डब्ल्यूएचओ की एक साधारण रिपोर्ट नहीं पढ़ सकते हैं, जिसमें कहा गया हो कि स्वच्छ भारत को सही तरीके से कार्यान्वित किए जाने से 3 लाख बच्चे बचाए गए हैं, जैसा कि प्रधान मंत्री दावा कर रहे हैं।

5 प्रधान मंत्री मोदी ने एक अंतरराष्ट्रीय रिपोर्ट का हवाला देते हुए दावा किया कि पिछले दो वर्षों में 5 करोड़ लोगों को गरीबी से ऊपर  हटा दिया गया है। हालांकि, वह इसका उल्लेख करने में विफल रहे कि यही रिपोर्ट इस सफलता का श्रेय पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार की प्रगतिशील नीतियों को देती है।

6 प्रधान मंत्री मोदी ने कहा कि पूर्ण विद्युतीकरण की दिशा में यूपीए के समय दशकों का समय लिया होगा। लेकिन यूपीए सरकार के दौरान मोदी का गणित कमजोर प्रतीत होता हैं। यूपीए के सासनकाल में प्रति वर्ष 12030 गांव विद्युतीकृत होते थे जबकि मोदी सरकार प्रति वर्ष 4842 गांवों को विद्युतीकरण कर पाई है।


हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।