प्रशांत गुप्ता ने अपनी गायिकी से फिर जीवंत किया 'बैजू बावरा' का मशहूर गीत 

'नीरजा' में काम कर चुके एक्टर प्रशांत गुप्ता ने अपनी गायिकी से फिर जीवंत किया 'बैजू बावरा' का मशहूर गीत ...

एजेंसी

'नीरजा' में काम कर चुके एक्टर प्रशांत गुप्ता ने अपनी गायिकी से फिर जीवंत किया 'बैजू बावरा' का मशहूर गीत 

नीरजा', 'इसक' और 'आइडेंटिटी कार्ड' जैसी फिल्मों में अपने अभिनय से सबको प्रभावित करने वाले अभिनेता प्रशांत गुप्ता अब 1952 में रिलीज हुई फिल्म 'बैजू बावरा' के क्लासिक गीत को जल्द ही दोबारा आवाज देंगे और अपनी मधुर गायिकी से इसे एक नये अंदाज में सबके सामने पेश करेंगे।

'प्रश्न' नामक इस कवर एलबम के जरिये प्रशांत दुनिया को‌ ये बताने की कोशिश करेंगे कि किस तरह से कुछ शास्त्रबद्ध गाने आज भी वैश्विक मुद्दों और मानवीय पीड़ा से तारतम्य रखते हैं।

मोहम्मद रफी द्वारे गाये 'ओ दुनिया के रखवाले' वो पहला गाना है, जिसे प्रशांत ने अपनी इस नई पहल के तौर पर गाया है और इसपर परफॊर्म किया है। इस कालजयी गाने को संगीतबद्ध किया था नौशाद ने और इसे लिखा था शकील बदायूंनी‌ ने। 

प्रशांत द्वारा इस गाने को चुनने के पीछे की जो मुख्य वजह रही वो ये कि ये गाना आज भी उतना ही सामायिक है। इसके अलावा इस गाने में जुड़ा वो ईश्वरीय तत्व का होना भी मुख्य वजह जिसके जरिये अवाम और दुनिया की मदद की गुहार लगाने के लिए इसे जाना जाता है।

इस गाने की गिनती ना सिर्फ सबसे मशहूर क्लासिक गीतों में‌ से एक के तौर पर होती है, बल्कि इसे श्रद्धांजलि के तौर पर फिर से गाना भी एक बेहद कठिन काम है।

प्रशांत कहते हैं, "यह एक गीत आत्मीय तरीके से उन सभी को एक स्वर प्रदान करने की कोशिश है, जो ईश्वर को अपनी नाउम्मीदी, उदासी, संघर्ष, अकेलेपन, अवसाद, दिल‌ टूटने जैसे परेशानियों के लिए याद करते हैं।"

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।