मै 'ज़ोश' फाउंडेशन और बच्चों के लिए ज़रूर कुछ करना चाहूंगा - अली असगर

शनिवार को 'ज़ोश' फाउंडेशन द्वारा आयोजित एक इंटरस्कूल डांस प्रतियोगिता, ' ''Lean an ear, hear the future' में मौजूद अली असगर, ने कहा कि वह 'ज़ोश' फाउंडेशन और बहरे बच्चों के लिए ज़रूर कुछ करना चाहेंगे।...

एजेंसी

शनिवार को 'ज़ोश' फाउंडेशन द्वारा आयोजित एक इंटरस्कूल डांस प्रतियोगिता, ' ''Lean an ear, hear the future' में मौजूद अली असगर, ने कहा कि वह 'ज़ोश' फाउंडेशन और बहरे बच्चों के लिए ज़रूर कुछ करना चाहेंगे।

'जॉश' फाउंडेशन द्वारा आयोजित इस डांस प्रतियोगिता में कई ऐसे बच्चे जो ठीक से बोल और सुन नहीं सकते, अपने प्रभावशाली परिणाम का शानदार प्रदर्शन करने मंच पर पहुंचे।

अली असगर ने, जो काफी समय से जोश फाउंडेशन से जुड़े हुए है, मीडिया के साथ बात चीत के दौरान बताया कि वह भविष्य में बच्चों के साथ प्रदर्शन करना पसंद करेंगे।  उन्हेंने कहा कि "ज़िन्दगी में हम कई बार कई काम सिर्फ प्रोफेशनल कारणों की वजह से करते हैं पर कुछ काम हम अपनी सन्तुष्टि के लिए करते हैं, जिस का दुनियादरा से या प्रोफेशनली कुछ कनेक्शन नहीं होता, जोश फाउण्डेशन के साथ जुड़ना और इनके बुलावे पर यहाँ आना मेरे लिए ऐसा ही कुछ है।“

उन्होंने कहा कि

“इन बच्चों को परफॉर्म करते हुए देख एक अजीब सा आनंद मिलता है और अगली बार मै खुद भी इन बच्चों के साथ कुछ परफॉर्म करना चाहूंगा और मई चाहूंगा की मई उनके लिए कुछ कर सकूं। “

अली असगर के अलावा संजय छेल, पूनम पांडे और कुनीका सदानंद भी वहां मौजूद थी और उन्होंने भी बच्चों की इस प्रस्तुति को काफी सराहा।

पूनम पांडे ने इन ख़ास बच्चों की और जोश फाउंडेशन की इस पहल की सराहना करते हुए कहा, "मेरे लिए इसका हिस्सा बनना एक बड़ी बात है, मुझे यहां आने में एक सम्मान सा महसूस होता है। मेरा ये मानना है की 'जोश' फाउंडेशन को और उनकी इस पहल को अधिक से अधिक बढ़ावा दिया जाए। ये बच्चे अदभूत है और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को इन के बारे में जानकारी होनी चाहिए। " .

Sanjay Chhel, Ali ASgar, Poonam Pandey and Kunickaa Sadanand supports Josh foundationबॉलीवुड के मशहूर निर्माता -निर्देशक संजय छेल ने बताया कि वो सच्चे मन से इस पहल की सराहना करते है, " ''Lean an ear, hear the future' एक बहुत ही बढ़िया कॉन्सेप्ट है। इन ख़ास बच्चों में जो उत्साह और उमंग है वो सराहनीय है। मैं आज ये प्रण लेता हूँ कि इस पहल के लिए मै साल दर साल इस कार्य के साथ जुड़ा रहूँगा।

एक विज्ञप्ति में बताया गया है कि 'जोश फाउंडेशन पिछले छह सालों से इस तरह की प्रतियोगिताएं आयोजित करता आ रहा है, जहाँ देश के कई ऐसी ख़ास स्कूलों के बच्चे हिस्सा लेते है और अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करके लोगों को मंत्र मुग्ध कर देते है।

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।