लालू प्रसाद यादव ने भाजपा-आरएसएस को जोर से डाँटा- मुझे धमकाने की हिम्मत मत करो, मैं दूसरों का हौसला डिगाता हूँ, मेरा कौन डिगाएगा?

बेनामी संपत्ति के आरोप पर लालू यादव ने भाजपा पर पलटवार किया है. उन्होंने कहा है कि हमने कुछ भी गलत नहीं किया है. ये सब मुझे बदनाम करने की बीजेपी की साज़िश है. जांच से हमें कोई डर नहीं है....

नई दिल्ली: बेनामी संपत्ति के आरोप पर लालू यादव ने भाजपा पर पलटवार किया है. उन्होंने कहा है कि हमने कुछ भी गलत नहीं किया है. ये सब मुझे बदनाम करने की बीजेपी की साज़िश है. जांच से हमें कोई डर नहीं है.

एक निजी टेलिविजन की रिपोर्ट के मुताबिक छापेमारी को लेकर लालू ने कहा कि 22 जगह छापेमारी कहां हुई, बताइए? 22 जगह छापे की बात से मेरी इमेज को नुकसान हुआ है.

लालू प्रसाद यादव ने आज ट्वीट करके बीजेपी और आरएसएस पर निशाना साधा है.

उन्होंने ट्वीट किया है कि बीजेपी और आरएसएस के लोगों सुनो, चाहे मेरी जो भी स्थिति हो, लालू तुमको दिल्ली की कुर्सी से उतारेगा.. मैं साफ-साफ कह रहा हूं कि मुझे धमकाने की हिम्मत मत करो.

इसके बाद भी लालू ने ट्वीट किया-

छापा..छापा...छापा...छापा..छापा...किसका छापा? किसको छापा? छापा तो हम मारेंगे 2019 में। मैं दूसरों का हौसला डिगाता हूँ, मेरा कौन डिगाएगा?

उन्होंने एक और ट्वीट किया है कि

अचक डोले..कचक डोले..खैरा-पीपल कभी ना डोले (मतलब मुझे कोई डिगा नहीं सकता). अंगद की तरह पैर गाड़ के खड़ा हूं, BJP को चैन से नहीं रहने दूंगा.

इससे पहले मंगलवार को बिहार की राजनीति में हलचल मच गई थी जब लालू प्रसाद यादव ने ट्वीट किया था कि भाजपा को नए अलायंस पार्टनर्स मुबारक हों. लालू झुकने और डरने वाला नहीं है. जब तक आख़िरी सांस है फासीवादी ताक़तों के ख़िलाफ़ लड़ता रहूंगा.

इस ट्वीट के बाद लगा कहीं गठबंधन खतरे में तो नहीं है लेकिन इस ट्वीट के कुछ देर बाद ही लालू यादव ने अपने इसी ट्वीट पर जवाब देते हुए लिखा कि ज़्यादा लार मत टपकाओ, गठबंधन अटूट है. अभी तो समान विचारधारा के और दलों को साथ जोड़ना है. मैं बीजेपी के सरकारी तंत्र और सरकारी सहयोगियों से नहीं डरता. RSS-BJP को लालू के नाम से कंपकंपी छूटती है. इनको पता है कि लालू इनके झूठ, लूट और जुमलों के कारोबार को ध्वस्त कर रहा है तो दबाव बनाओ.

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।