देशी अंग्रेजों भारत छोड़ो, योगी मोदी गद्दी छोड़ो,

अगस्त क्रांति दिवस पर किसान सभा ने किया जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन, योगी सरकार मे कानून व्यवस्था को ध्वस्त करने मे गोरखपुरी गैंग का पूरा हाथ - रणधीर सिंह सुमन...

हाइलाइट्स
गुंडों द्वारा पुलिस से मिलीभगत कर माकपा कार्यालय गिराए जाने के मामले ने पकड़ा तूल
अगस्त क्रांति दिवस पर किसान सभा ने किया जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन
योगी सरकार मे कानून व्यवस्था को ध्वस्त करने मे गोरखपुरी गैंग का पूरा हाथ - रणधीर सिंह सुमन

 

- भूपिंदर पाल सिंह

बाराबंकी। योगी सरकार लोकतन्त्र मे ऐसी हरकते कर रही है, जो अग्रेजों के शासनकाल को भी पीछे छोड़ रही है। जिसका जीता जागता उदाहरण माकपा कार्यालय को लूटवाकर गिरवा देना है। प्रदेश की कानून व्यवस्था को ध्वस्त करने मे इनके गोरखपुरी गैंग का पूरा हाथ है।

यह विचार गांधी भवन मे किसान सभा द्वारा आयोजित क्रांन्त दिवस पर अंग्रेजो भारत छोड़ो’ के दिन किसानो की मांगों को पूरा करो वरना भारत छोड़ो आन्दोलन बैठक व गुण्डों द्वारा पुलिस से मिली-भगत कर माकपा कार्यालय गिराये जाने के विरोध में आयोजित सभा में किसान सभा के राज्य कौसिल सदस्य रणधीर सिंह सुमन ने व्यक्त किए।

कामरेड सुमन ने कहा कि मोदी सरकार के आने के बाद देश के अन्दर तीन लाख किसानों ने आत्महत्या कर ली है। और लगभग चार लाख करोड़ लोगो का रोजगार छिन चुका है। नये रोजगार का सृजन नहीं हो रहा है।

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी जिला सचिव बृज मोहन वर्मा ने कहा कि पहले विदेशी अंग्रेज किसान मजदूरो को तंग कर रहे थे। उससे कही ज्यादा यह देशी अंग्रेज तंग कर रहे हैं। उनके समय मे किसान जिन्दा था। इनके समय मे किसान आत्महत्या कर रहा है। किसानों से ही देश चल रहा है। इसलिए किसानों को जिन्दा रखने के लिए उनको प्रति माह दस हजार रुपये पेंशन दिया जाना आवश्यक है।

पार्टी जिला सहसचिव डा0 कौसर हुसैन ने कहा कि योगी सरकार किसानो के कर्जे माफ करने के सवालो पर सत्ता पर आई थी। लेकिन अभी तक किसी भी किसानो का कर्जा माफ नही किया गया।

सभा मे शिवदर्शन सिंह, डा0 विनोद यादव, प्रवीण कुमार, रामनरेश वर्मा, अमर सिंह प्रधान, सरदार भूपिन्दर पाल सिंह , प्रत्यूशकान्त शुक्ला आदि किसान नेताओ ने अपने विचार रखे।

सभा के पश्चात लाल झण्ड़ा लिये किसानों ने देशी अंग्रेजो भारत छोड़ो, योगी मोदी गद्दी छोड़ो किसानो को पेंशन दो आदि नारो के साथ गांधी भवन से जुलूस निकाल कर जिलाधिकारी कार्यालय पर पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। मुख्यमंत्री को सम्बोधित माकपा कार्यालय गिराये जाने का शिकायती प्रार्थना पत्र अतिरिक्त मजिस्ट्रेट को दिया। जुलूस में रामेश्वर यादव, निर्मल वर्मा, राजेन्द्र सिंह राणा, गणेश सिंह अनूप, कर्मवीर सिंह, अवधेश यादव, अमर सिंह गुड्डु, सतीश कुमार, गिरीश चन्द्र, विजय प्रताप सिंह आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे।

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।