शिवपाल की पार्टी का “माया” पर पलटवार, दुनिया जानती है भाजपा के साथ मिलकर बार-बार किसने सरकार बनाई कौन टिकट बेचता है

पूर्व में भी मायावती पिछड़ों व दलितों और मुसलमानों का वोट लेकर भाजपा की गोद में बैठ चुकी हैं, ऐसे में कहीं ऐसा न हो कि इतिहास फिर से स्वयं को दोहराए और मायावती चुनाव के बाद भाजपा से जा मिलें...

लखनऊ, 12 जनवरी। आगामी लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) के लिए सपा-बसपा गठबंधन (SP-BSP combine) की घोषणा के वक्त बसपा सुप्रीमो मायावती (BSP supremo Mayawati) द्वारा मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के अनुज शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) पर आरोप लगाए जाने पर शिवपाल की पार्टी (Shivpal's party) ने जोरदार पलटवार किया है।

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के मुख्य प्रवक्ता व पूर्व मंत्री सी.पी. राय ने कहा कि अखिलेश और मायावती की साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में मायावती द्वारा सीधे तौर पर प्रसपा पर भाजपा से मिले होने का आरोप लगाया गया है, यह आरोप पूर्णतयः तथ्यहीन व बेबुनियाद है। आम जनमा नस और मीडिया को यह पता है कि उत्तर प्रदेश में भाजपा के साथ मिलकर बार-बार किसने सरकार बनाई है, साथ ही उन्हें यह भी बताने की जरूरत नहीं है कि शिवपाल यादव का साम्प्रदायिक शक्तियों के खिलाफ पिछले चार दशकों का संघर्ष किसी भी संदेह से परे है।

श्री राय ने कहा कि मायावती द्वारा यह भी आरोप लगाया गया कि भाजपा द्वारा शिवपाल जी को आर्थिक सहयोग दिया जा रहा है, यह आरोप झूठा एवं निराधार है एवं यह सभी को पता है कि कौन लोग आर्थिक भ्रष्टाचार में लिप्त हैं और कौन सी पार्टी में टिकट बेचे जाते हैं।

प्रसपालो प्रवक्ता ने कहा कि अखिलेश यादव का जब जन्म भी नहीं हुआ था उसके पहले से ही उत्तर प्रदेश में शिवपाल यादव भाजपा और साम्प्रदायिक शक्तियों के खिलाफ सबसे मुखर स्वर रहे एवं संघर्ष किया हैं। अखिलेश को यह समझना चाहिए कि इसके पूर्व भी मायावती पिछड़ों व दलितों और मुसलमानों का वोट लेकर भाजपा की गोद में बैठ चुकी हैं, ऐसे में कहीं ऐसा न हो कि इतिहास फिर से स्वयं को दोहराए और मायावती चुनाव के बाद भाजपा से जा मिलें। ये भी सबको पता है कि राजस्थान, मध्य प्रदेश एवं छत्तीसगढ़ के चुनाव में कांग्रेस से गठबंधन न कर बीजेपी को लाभ किसने पहुंचाया।

डॉ. राय ने सपा कार्यकर्ताओं की कमजोर नस दबाते हुए कहा कि बसपा की सरकार के दौरान सपा के कार्यकर्ताओं, पिछड़ों, मुसलमानों पर हजारों मुकदमें लिखे गये। वह कार्यकर्ता आज भी थानों, कचहरियों के चक्कर लगा रहे हैं। अगर सपा-बसपा ने राजनीतिक लाभ के लिए गठबंधन नहीं किया है तो जनता के बीच बताएं कि बसपा सरकार में जिन लोगों के खिलाफ सिर्फ राजनीतिक आधार पर मुकदमा दर्ज किया गया था, उसकी भरपाई कैसे करेंगे।

उन्होंने आरोप लगाया कि सपा ने आज उस दल से गठबंधन किया है, जिसने हमेशा समाजवादी पार्टी खून से सींचने वाले मुलायम सिंह यादव, जनेश्वर मिश्र का अपमान किया है। यह मौका परस्ती का गठबंधन है। समाजवादी धारा से जुड़ा कोई कार्यकर्ता और समाज का गरीब, वंचित तबका इस गठबंधन को कभी स्वीकार नहीं करेगा।

इस गठबंधन पर कोई प्रतिक्रिया देने से इंकार करते हुए डॉ. राय ने कहा कि उस पर अभी से नफा नुकसान पर कोई प्रतिक्रिया देना थोड़ी जल्दबाजी होगी। ज्यों ही लोकसभा चुनाव करीब आएगा, हर गुजरते दिन के साथ यूपी की राजनीति में नए समीकरण बनेंगे। अपने निर्माण के सीमित अवधि में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी ने अपने व्यापक जनाधार व लोकप्रियता के बल पर यह स्पष्ट संकेत दे दिया है कि प्रसपा के आभाव में यूपी के पॉलिटिकल स्फीयर में साम्प्रदायिक शक्तियों व सत्ता के विरुद्ध किसी भी मंच, गठबन्धन या संघर्ष की कल्पना नहीं की जा सकती। प्रसपा प्रदेश की एक बड़ी ताकत है, और साम्प्रदायिक शक्तियों के विरुद्ध सभी सीटों पर अकेले लड़ने में समर्थ है। प्रसपा किसी गठबंधन का हिस्सा होने के लिए आतुर नहीं है। यह सैद्धांतिक सहमति व सम्मान के आधार पर ही तय होगा। सेक्युलर मोर्चा में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी एवं बहुजन मुक्ति मोर्चा के साथ उत्तर प्रदेश की 40 से अधिक छोटी पार्टियां है जिसके सहयोग के बिना भाजपा को हराना असंभव होगा और यह मोर्चा अल्पसंख़्यको, पिछडो एवं दलितों के हितो की रक्षा करने के लिए गठित किया है जिसका प्रस्थान बिन्दु ही यह है कि जिसकी जितनी हिस्सेदारी, उसकी उतनी भागीदारी।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।