गुजरात बढ़ी भाजपा की मुश्किल : हार्दिक के करीबी निखिल सवानी ने छोड़ी भाजपा, बोले- 'गलत फैसला था'

श्री सवानी ने पाटीदार नेता नरेंद्र पटेल की तारीफ करते हुए कहा कि वह (नरेंद्र पटेल) एक छोटेपरिवार से आतेहैं,लेकिन उन्होंने एककरोड़ को लातमार दी।’ ...

गुजरात बढ़ी भाजपा की मुश्किल : हार्दिक के करीबी निखिल सवानी ने छोड़ी भाजपा, बोले-
Photo with courtesy ANI twitter

गुजरात विधानसभा चुनाव में अब एक नया मोड़ आ गया है। पाटीदार नेता निखिल सवानी ने भाजपा से इस्तीफा दे दिया है। निखिल सवानी ने कुछ दिन पहले ही भाजपा ज्वाईन की थी। सवानी हार्दिक पटेल के काफी करीबी हैं। आज प्रेस कॉनफ्रेंस कर उन्होंने कहा कि भाजपा में जाना मेरा एक गलत फैसला था।

निखिल सवानी ने कहा, ‘भाजपा पाटीदारों को सिर्फ लॉलीपॉप देती है।’ सवानी ने भाजपा पर खरीद फरोख्त का आरोप लगाते हुए कहा, ‘ भाजपा पाटीदारों को तोड़ने में लगी हुई है।’ उन्होंने कहा कि मुझे भाजपा में आने के लिए कोई पैसे नहीं मिले थे।’’

सवानी ने आगे कहा, ‘जो पार्टी पाटीदारों की भलाई के लिए काम करेगी, हम उसका साथ देंगे.’ मुझे लगा था कि भाजपा पाटीदारों के हितों की बात करेगी, लेकिन बाद में मुझे पता चल गया कि भाजपा पाटीदारों के लिए कुछ नहीं करने वाली।

उन्होंने कहा कि वह राहुल गांधी से मिल कर अपनी बात रखेंगे।

श्री सवानी ने पाटीदार नेता नरेंद्र पटेल की तारीफ करते हुए कहा कि वह (नरेंद्र पटेल) एक छोटेपरिवार से आतेहैं,लेकिन उन्होंने एककरोड़ को लातमार दी।’

बता दें कल हार्दिक पटेल के करीबी और पाटीदार नेता नरेंद्र पटेल ने मीडिया के सामने आकर भाजपा पर बड़ा आरोप लगाया था। नरेंद्र पटेल का दावा है कि भाजपा में शामिल होने के लिए उन्हें एक करोड़ रुपये देने की पेशकश की गई थी, जिसमें से दस लाख रुपये उन्हें मिल चुके हैं।

गुजरात में करीब 20 फीसदी पाटीदार हैं, जो राज्य की कुल 182 सीटों में से करीब 80 सीटों पर जीत-हार तय करने की हालत में होते हैं।

बता दें कि साल 2015 से आरक्षण की मांग को लेकर पटेल समुदाय हार्दिक पटेल के नेतृत्व में गुजरात में जगह-जगह आंदोलन कर रहा है। हार्दिक पटेल भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को जनरल डायर कहकर पुकारते हैं।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।