नितप्रिया प्रलय राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के 21 महत्वाकांक्षी नाट्य निर्देशकों में शामिल

​​​​​​​हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा की शोधार्थी राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय, नई दिल्ली के 21 महत्वाकांक्षी नाट्य निर्देशकों में शामिल ...

हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा की शोधार्थी राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय, नई दिल्ली के 21 महत्वाकांक्षी नाट्य निर्देशकों में शामिल 

      प्रदर्शनकारी कला (फिल्म एवं रंगमंच) विभाग की पीएच.डी. शोधार्थी सुश्री नितप्रिया प्रलय का चयन राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय, नई दिल्ली तथा जवाहर कला केंद्र, जयपुर के संयुक्त तत्वावधन में आयोजित महत्वाकांक्षी महिला निर्देशकों के लिए आयोजित 30 दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला हेतु हुआ है। 01 जून, 2017 से 30 जून, 2017 तक चले इस कार्यशाला में पूरे भारत से 21 महिला निर्देशकों ने भाग लिया।

नितप्रिया प्रलय ने कार्यशाला के दौरान हुए गतिविधियों को हमसे साझा करते हुए बताया कि कार्यशाला के प्रथम सप्ताह यानि सात दिन मुख्यत: प्रकाश-व्यवस्था से संबन्धित कक्षाओं का आयोजन किया गया जिसके अंतर्गत मशहूर लाइट डिजाइनर अशोक भगत ने हमें रंगमंच में प्रकाश के सैद्धान्तिक तथा व्यावहारिक उपयोग से विस्तारपूर्वक परिचित करवाया। इसी सप्ताह मशहूर रंग निर्देशक अदिति विश्वास ने प्रतिभागियों के साथ नाट्य निर्देशन पर विस्तृत बातचीत की।

कार्यशाला के अगले चरण में वस्त्र विन्यास, आशुरचना, रंग संगीत, सेट डिजाइन, नृत्य, पेंटिंग, मेकअप, बॉडी मूवमेंट, साउंड आदि पर विस्तृत कक्षाओं का आयोजन किया गया था जिसके लिए प्रो. त्रिपुरारी शर्मा, डॉली अहलूवालिया, काजल घोष, साउती चक्रवर्ती, सोनल जी, गीता चंद्रा, जॉलीजी , कीर्ति जैन, राजेश लाल, टीकम जोशी, राजेश सिंह आदि विद्वानों ने अपना योगदान दिया।

कार्यशाला के अंतिम सप्ताह में प्रत्येक सहभागी को एक लघु नाट्य प्रस्तुति देनी थी इसके अंतर्गत नितप्रिया ने शेक्सपियर नाटक ‘मेकबेथ’ से एक अंश डेवलप कर निर्देशित किया।

कार्यशाला में सफलतापूर्वक सहभागिता हेतु विभागाध्यक्ष डॉ. ओमप्रकाश भारती, सहायक प्रो. डॉ. सतीश पावड़े तथा अन्य विभागीय शैक्षणिक तथा गैरशैक्षणिक कर्मचारियों ने नितप्रिया प्रलय को बधाई एवं शुभकामनाएँ दी।

सुश्री नितप्रिया प्रलय प्रदर्शनकारी कला (फिल्म एवं रंगमंच) विभाग में सहायक प्रोफेसर डॉ. सतीश पावड़े के निर्देशन में “लोकनाट्य की सांगीतिक पद्धति” विषय पर शोधरत हैं।

     

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।