नोटबंदी : मोदीजी, कहां गया काला धन ?

सुश्री बनर्जी ने कहा कि उनकी अंतरात्मा कहती है कि क्रूर नोटबंदी की घोषणा एक बड़ा जनविरोधी कदम था। ...

नोटबंदी : मोदीजी, कहां गया काला धन ?

नई दिल्ली, 30 अगस्त। केंद्र सरकार की नोटबंदी की आलोचना करते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आश्चर्य जताया है कि क्या नोटबंदी इसलिए लागू की गई थी कि कालाधन रखने वाले गुपचुप इसे सफेद धन में तब्दील कर लें!

बता दें अब भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने घोषणा कर दी है कि आठ नवंबर, 2016 को नोटबंदी के जरिए चलन से बाहर किए गए 15.42 लाख करोड़ रुपये में से 99 प्रतिशत से अधिक शीर्ष बैंक के पास वापस आ गए हैं।

ममता ने अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर जारी एक पोस्ट में सवाल किया है,

"मेरा पहला सवाल आज यह है कि काला धन कहां गया?..मेरा दूसरा सवाल यह है कि क्या यह योजना इसलिए लाई गई थी कि काला धन रखने वाले अपने काले धन को गुपचुप सफेद धन में परिवर्तित कर लें?"

आरबीआई ने बुधवार को घोषणा की कि 2017-18 की उसकी रपट के अनुसार, अमान्य किए गए 500 रुपये और 1000 रुपये के नोटों की सत्यापन प्रक्रिया पूरी होने के बाद पाया गया कि आठ नवंबर, 2016 को नोटबंदी के समय चलन में रहे विमुद्रित 15.42 लाख करोड़ रुपये में से 15.31 लाख करोड़ रुपये यानी 99.3 प्रतिशत मुद्रा बैंकिंग प्रणाली में वापस आ गई है।

सुश्री बनर्जी ने कहा कि उनकी अंतरात्मा कहती है कि क्रूर नोटबंदी की घोषणा एक बड़ा जनविरोधी कदम था।

उन्होंने यह भी कहा कि इसने देश की आम जनता को, खासतौर से किसानों, असंगठित क्षेत्र, छोटे उद्यमों और कड़ी मेहनत करने वाले मध्य वर्ग को बुरी तरह प्रभावित किया है और आगे भी करेगा।

प. बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा,

" आरबीआई ने 2017-18 की अपनी वार्षिक रपट में हमारी चिंता को सही साबित कर दिया है। यह एक त्रासदी है और शर्म की बात है।"

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।