“कम वजन” के मुकाबले “मोटापा” है अधिक बड़ी समस्या !

दुनिया की अधिकांश आबादी उन देशों में रहती है जहां अधिक वजन और मोटापा कम वजन से अधिक लोगों को मारता है।...

कम वजन के मुकाबले मोटापा है अधिक बड़ी समस्या !

स्वास्थ्य विषय/ Health topic,

मोटापा और अधिक वजन/ Obesity and overweight

डब्ल्यूएचओ की मोटापा संबंधित फैक्टशीट

क्या आप जानते हैं अधिक वजन और मोटापा से दुनिया में “कम वजन” की तुलना में अधिक मौतें होती हैं। दुनिया भर में कम वजन वाले लोगों की तुलना में ऐसे लोगों की संख्या अधिक हैं जो मोटापे से ग्रस्त हैं। मोटापे की बीमारी उप-सहारा अफ्रीका और एशिया के कुछ हिस्सों को छोड़कर हर क्षेत्र में होती है।

जी हाँ विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक फैक्टशीट यही बताती है।

फैक्टशीट के मुताबिक मोटापा से संबंधित कुछ मुख्य तथ्य निम्न हैं

विश्वव्यापी मोटापा वर्ष 1975 की तुलना में वर्ष 2016 में लगभग तीन गुना हो गया है।

2016 में, 18 साल और उससे अधिक उम्र के 1.9 बिलियन वयस्क, अधिक वजन वाले थे। इनमें से 650 मिलियन मोटे थे।

18 साल और उससे अधिक उम्र के वयस्कों का 39% 2016 में अधिक वजन था, और 13% मोटापे से ग्रस्त थे।

दुनिया की अधिकांश आबादी उन देशों में रहती है जहां "अधिक वजन" और "मोटापा", "कम वजन" से अधिक लोगों को मारता है।

2016 में 5 वर्ष से कम आयु के 41 मिलियन बच्चे अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त थे।

2016 में 5 से 19 वर्ष से अधिक उम्र के 340 मिलियन बच्चे और किशोर अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त थे।

मोटापा की रोकथाम संभव है।

नोट - यह समाचार किसी भी हालत में चिकित्सकीय परामर्श नहीं है। यह समाचारों में उपलब्ध सामग्री के अध्ययन के आधार पर जागरूकता के उद्देश्य से तैयार की गई अव्यावसायिक रिपोर्ट मात्र है। आप इस समाचार के आधार पर कोई निर्णय कतई नहीं ले सकते। स्वयं डॉक्टर न बनें किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लें।) 

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

Fact sheets related to obesity, मोटापा संबंधित डब्ल्यूएचओ की फैक्ट शीट, obesity related WHO fact sheet, Obesity prevention, Obesity Prevention, Obesity, World Health Organization, Factsheet, 

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।