योगीराज : जहां अपराधी निर्भय हैं और पुलिस सुरक्षित नहीं

उत्तर प्रदेश में इन दिनों पूरी तरह जंगलराज है। योगीराज में जहां अपराधी निर्भय हैं वहीं  जनता की तो छोड़िए पुलिस भी सुरक्षित नहीं रह गई है।...

उत्तर प्रदेश में इन दिनों पूरी तरह जंगलराज है। योगीराज में जहां अपराधी निर्भय हैं वहीं  जनता की तो छोड़िए पुलिस भी सुरक्षित नहीं रह गई है।

योगीराज में कानून का राज किस कदर गायब है इसका नजारा कानपुर में देखने को मिला, जहां भीड़ को नियंत्रित करने पहुंची पुलिस पर बेकाबू भीड़ ने हमला कर दिया। इतना ही नहीं, एक एसओ पर बुरी तरह से बीच सड़क पर लात घूंसे बरसाए गए।

मामला कानपुर के बर्रा थाना क्षेत्र स्थित जागृति हॉस्पिटल का है, जहां अस्पताल में भर्ती एक युवती ने वार्ड ब्वॉय पर अपने सामने कपड़े चेंज करवाने और इंजेक्शन देकर रेप करने का आरोप लगाया था, जिसके बाद पुलिस ने आरोपी को अरेस्ट कर लिया था। लेकिन मामले में शनिवार को युवती के परिजनों सहित सैकड़ों लोगों ने हॉस्पिटल सीज करने की मांग को लेकर नेशनल हाइवे-2 जाम कर दिया।

पुलिस बल जब जाम खुलवाने पहुंचा तो पब्लिक के साथ पुलिस की भिड़ंत हो गई। इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने हंगामा करना शुरू कर दिया।

इस बीच पुलिस ने जब लाठी भांजकर जाम खुलवाने की कोशिश की, तो प्रदर्शनकारी और भड़क गए। उन्होंने पुलिसकर्मियों पर ही हमला कर दिया।

प्रदर्शनकारियों ने एक दारोगा को दबोच कर गिरा लिया और लात-घूंसों और पत्थर से जमकर पीटा, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया।

कुछ देर बाद एकवरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने रिवाल्वर निकाल दारोगा को भीड़ से बचाया। घायल दरोगा को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


उधर कानपुर पुलिस का दावा है कि पुलिस पर हमला करने वाले सलाखों के पीछे पहुंच गए हैं और बर्रा जागृति अस्पताल की घटना में पथराव करने वाले उपद्रवियों में पुलिस कार्यवाही से हड़कंप मचा है।


हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।